भारत के लड़ाकू विमान सुखोई और मिराज की बराबरी करने चला था PAK का JF-17, लेकिन हो गया ढेर

0
192
Webvarta Desk: भारत के साथ हवाई युद्ध को लेकर पाकिस्तान अपने जिस लड़ाकू विमान (PAK Fighter Jet JF-17) की तारीफों के पुल बांधते हुए नहीं थकता था, दरअसल वह वास्तविकता में फेल हो चुका है।

पाकिस्तान के इन झूठे दावों की पोल इस बार ग्रीस की एक वेबसाइट पेन्टोपोस्टेग्मा ने खोली है। इस वेबसाइट ने एक-एक पॉइंट्स को लेकर पाकिस्तान और चीन के साझा सहयोग से बनाए गए जेएफ-17 लड़ाकू विमान (PAK Fighter Jet JF-17) की बखिया उधेड़ दी है।

बता दें कि जेएफ-17 वही लड़ाकू विमान (PAK Fighter Jet JF-17) है जिसका ब्लॉक-3 वैरियंट को पाकिस्तान अब बनाने जा रहा है। जिसके बाद पाकिस्तान के न्यूज चैनल्स और वहां के डिफेंस एक्सपर्ट इसकी तुलना भारत के राफेल लड़ाकू विमान से करने लगे थे।

ग्रीस की वेबसाइट ने बताया है कि जिन काबिलियतों को लेकर जेएफ-17 को बनाया गया था वह हकीकत में काफी दूर की कौड़ी है। यह एक लो कॉस्ट लड़ाकू विमान है जिसे चीन के घटिया एवियोनिक्स और वेपन्स के साथ विकसित किया गया है।

कैसे चीन और पाकिस्तान ने बनाया JF-17 लड़ाकू विमान

दरअसल, साल 1999 में कारगिल युद्ध में पाकिस्तानी सेना की भारत के हाथों करारी हार हुई थी। तब के युद्ध में भारत के कई लड़ाकू विमानों ने कारगिल और द्रास की ऊंची-ऊंची चोटियों पर पाकिस्तानी सेना के बंकरों पर अपना कहर बरपाया था।

उस समय पाकिस्तान के पास एफ-16 लड़ाकू विमान थे, लेकिन अमेरिका ने इसे किसी भी तरह से भारत के खिलाफ इस्तेमाल की इजाजत नहीं दी थी। जिसके बाद हार से बौखलाए पाकिस्तान ने साल 1999 में अपने सदाबहार दोस्त चीन के साथ मिलकर जेएफ-17 थंडर को विकसित करने का करार किया था। जिसके बाद दोनों देशों ने साथ मिलकर एक सस्ते, हल्के और हर मौसम में उड़ान भरने लायक मल्टीरोल लड़ाकू विमान को विकसित किया। जिसमें चाइनीज एयरफ्रेम के साथ पश्चिमी देशों की एवियोनिक्स और रूसी क्लिमोव आरडी 93 इंजन लगा हुआ था।

मेंटीनेंस और ऑपरेशनल कॉस्ट को लेकर परेशान है पाकिस्तान

चीन और पाकिस्तान के मुताबिक, इस लड़ाकू विमान को ऐसा बनाया गया था जो भारत के सुखोई एसयू-30एमकेआई और मिराज-2000 को टक्कर दे सकता था। चीन ने यहां तक कहा कि वह इस विमान की बेहतर क्षमताओं के कारण इसे अपनी एयरफोर्स (PLAAF) में भी शामिल करेगा। हालांकि, विमान अपनी कल्पना क्षमताओं से बहुत दूर है। क्योंकि, इस विमान को कम गुणवत्ता वाले चीनी एवियोनिक्स और हथियारों के साथ विकसित किया गया है।

पाकिस्तान एयरफोर्स ने भी यह पाया है कि आधुनिक हथियार प्रणालियों की तुलना में जेएफ -17 विमानों का संचालन और रखरखाव लागत बहुत अधिक है। जिससे इस विमान को लंबे समय तक उड़ने योग्य बनाने के लिए इसके ऑपरेशनल कॉस्ट को कम करने की जरूरत है। चीन और पाकिस्तान ऑल वेदर फ्रेंड कहे जाते हैं इसलिए इन्होंने ठीकठाक पैसा इस विमान को विकसित करने पर खर्च किया हुआ है।

पाकिस्तान शुरू में इस विमान के एवियोनिक्स को पश्चिमी देशों से खरीदना चाहता था, लेकिन चीन ने दबाव बनाते हुए न सिर्फ पाकिस्तान को ऐसा करने से मना कर दिया, बल्कि चीनी एवियोनिक्स के साथ बनाए विमान को लेने के लिए मजबूर किया।

दुनियाभर से JF-17 के कंपोनेंट मंगाकर असेंबल कर रहा पाक

कहा जाता है कि पाकिस्तान एयरोनॉटिकल कॉम्प्लेक्स (पीएसी), कामरा का जेफए-17 के उत्पादन में 58 फीसदी का हिस्सा होना चाहिए, लेकिन यह वास्तविकता से बहुत दूर है। कामरा चीन से महत्वपूर्ण प्रणालियों के कच्चे माल और प्रॉडक्शन किट खरीदता है और उसे एयरक्राफ्ट मैन्यूफैक्चरिंग फैसिलिटी में जेएफ-17 विमान में असेंबल कर देता है। पाकिस्तान एयरोनॉटिकल कॉम्प्लेक्स केवल कुछ चीजों को ही बनाता है जिसमें विमान के विंग्स, फ्रंट का एक हिस्सा और टेल।

बड़ी बात यह है कि इन्हें निर्माण करने के लिए जिन मैटेरियल्स का इस्तेमाल किया जाता है पाकिस्तान उन्हें भी चीन से ही मंगाता है। इस विमान में बाकी के सभी सिस्टम चाइनीज, साउथ अफ्रीका या यूरोप के देशों से आयात किए गए हैं। इस विमान में पायलटों को बैठने और दुर्घटना के समय बाहर निकालने की इजेक्शन सीट लगी हुई है वह यूके की कंपनी मॉर्टिन बेकर की है।

इसलिए, पाकिस्तान की एयरोनॉटिकल कॉम्प्लेक्स को एक सबअसेंबली लाइन कहना ज्यादा सही है जो दुनिया भर के देशों से अलग-अलग कंपोनेंट को मंगाकर उन्हें जेएफ-17 विमान के चाइनीज एयरफ्रेम में असेंबल करती है। इस विमान के एयरफ्रेम का भी बड़ा हिस्सा चीन से बना-बनाया हुआ ही आयात किया जाता है।

पाक एयरफोर्स में 115 JF-17 लड़ाकू विमान ऑपरेशनल

साल 2009 से लेकर पाकिस्तान ने जेएफ-17 लड़ाकू विमान के अबतक कुल 115 यूनिट का प्रॉडक्शन किया है। पिछले साल यानी 2020 में पाकिस्तान ने जेएफ-17 के डबल सीट वाले ट्रेनर एयरक्राफ्ट को भी अपनी वायुसेना में औपचारिक रूप से शामिल किया था। JF-17 के पांच ऑपरेशनल स्क्वाड्रन हैं और कॉम्बैट कमांडर्स स्कूल में एक फ्लाइट भी है, जिसे पाकिस्तानी वायुसेना छठे स्क्वाड्रन के रूप में ओवरस्टेट्स करती है।

माना जा रहा है कि अब ट्रेनर विमान की मदद से पाकिस्तान जेएफ-17 के सातवें स्क्वाड्रन को बनाने की योजना पर भी काम कर रहा है। पाकिस्तान का यह लड़ाकू विमान ब्लॉक-1 और ब्लॉक-2 वैरियंट में उपलब्ध है। पाकिस्तान जेएफ-17 के तीसरे ब्लॉक के प्रॉडक्शन पर भी काम कर रहा है जिसमें बेहतर एवियोनिक्स और एईएसए रडार लगे होंगे। माना जा रहा है कि यह वैरियंट पहले के दोनों ब्लॉक की तुलना में ज्यादा अडवांस होगा।

इसलिए जेएफ-17 है दुनिया का सबसे बेकार लड़ाकू विमान

रिपोर्ट में बताया गया है कि किसी भी आधुनिक लड़ाकू विमान में विश्वसनीय सिस्टम और कम से कम मेंटिनेंट कॉस्ट होनी चाहिए। जिससे किसी ऑपरेशन के दौरान विमान में कोई खराबी न आए और खर्च भी कम हो। किसी भी एयरक्राफ्ट की ताकत उसके एवियोनिक्स, हथियार और इंजन की क्षमता से नापी जाती है। लेकिन, जेएफ-17 ज्यादातर एरिया में फेल हुआ है। इस रिपोर्ट में 27 फरवरी 2019 को भारत और पाकिस्तान की वायुसेना के बीच हुई की डॉगफाइट का भी जिक्र किया गया है।

बताया गया है कि उस दिन जेएफ-17 का प्रदर्शन भारत के मिराज-2000 और सुखोई-30 एमकेआई के सामने काफी खराब रहा था। एयर डिफेंस के रोल में इसका स्वदेशी लिंक -17 डेटा लिंक न केवल गैरभरोसेमंद है बल्कि बहुत धीमा भी है। यही कारण है कि यह एफ-16 के लिंक -16 के साथ कभी भी जुड़ नहीं पाया। इस विमान में प्रभावी बियॉन्ड विजुअल रेंज या एयरबोर्न इंटरसेप्शन रडार भी नहीं है।

JF-17 का चीनी रेडार और हथियार प्रणाली सबसे खराब

इस विमान का एवियोनिक्स भी बहुत ही खराब है। इसमें चीन में बना हुआ KLJ-7 एआई रडार लगा हुआ है। वेपन मिशन मैनेजमेंट कंप्यूटर (WMMC) है। दोनों ही सिस्टम समस्याओं से भरे हैं। KLJ-7 रडार में कई मोड हैं, लेकिन हर बार इनमें कोई न कोई तकनीकी खामी जरूर होती है। इसके ऑपरेशन और मेंटिनेंस में कई समस्याए हैं जिसे नानजिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स टेक्नोलॉजी ने कई बार मोडिफाई भी किया है। उसके बार भी इस विमान के रडार और वेपन मिशन मैनेजमेंट कंप्यूटर को सुधारा नहीं जा सका है।

प्रैक्टिस के दौरान यह लड़ाकू विमान बियॉन्ड विजुअल रेंज की मिसाइलों को फायर नहीं कर सका है। कई बार तो उसकी रेंज ही घट गई है। इस कारण पाकिस्तान की विमानन कंपनी अब इसे स्वदेशी तरीके से बनाने पर जोर दे रही है। इस विमान में लगा 23 मिमी गन हवा में फायर करते हुए रुक जाता है।

चीनी SD-10 BVR, REK और C-802AK एंटी-शिप मिसाइल के अलावा, विमान मिग -21 के सामान्य हथियार लोड को वहन करता है। इस विमान को चीनी SD-10 BVR, REK और C-802AK एंटी-शिप मिसाइल से लैस करने की योजना पर काम किया जा रहा है, लेकिन उसमें भी सीमित कामयाबी मिली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here