T20 वर्ल्ड कप पर नजरें, तो क्या विराट कोहली बनेंगे टीम इंडिया के परमानेंट ओपनर!

0
283
Virat Kohli
Webvarta Desk: इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टी20 इंटरनैशनल (IND vs ENG 5th T20) से पहले विराट कोहली (Virat Kohli) ने 83 पारियों में सिर्फ सात बार पारी की शुरुआत की थी। 2018 के बाद तो उन्होंने सिर्फ एक बार ही टी20 इंटरनैशनल में ओपनिंग की थी। हालांकि अब ऐसा लगता है कि भारतीय कप्तान इस विकल्प पर गंभीरता से सोच रहे हैं।

कैप्टन कोहली (Virat Kohli) ने इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टी20 (IND vs ENG 5th T20) के बाद कहा कि वह इस साल इंडियन प्रीमियर लीग में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए पारी की शुरुआत करेंगे। इस साल अक्टूबर में भारत में टी20 का वर्ल्ड कप होना है और कोहली उससे पहले भारतीय टीम के लिए सभी विकल्पों की तलाश कर रहे हैं।

कोहली (Virat Kohli) ने टी20 इंटरनैशनल में सलामी बल्लेबाज के रूप में 8 पारियों में सिर्फ एक अर्धशतक लगाया था। हालांकि उनका स्ट्राइक रेट बेहतर हो जाता है। इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में भारत ने कई ओपनिंग विकल्प आजमाए। लेकिन सही मायनों में कोई भी कामयाब नहीं हुआ।

लोकेश राहुल को चार मैचों में मौका दिया गया। शिखर धवन ने भी एक बार पारी की शुरुआत की लेकिन जोड़ी के रूप में कोई भी सफल नहीं हुई। पर आखिरी मैच में कोहली और रोहित शर्मा की जोड़ी ने इस सिलसिले को तोड़ा। कोहली ने 34 गेंद पर ताबड़तोड़ 64 रन बनाए और कोहली अंत तक नाबाद रहे 52 गेंद पर 82 रन की नाबाद पारी खेली। भारत ने 2 विकेट पर 224 रन का स्कोर बनाया।

कोहली ने मैच के बाद अपने इरादे जाहिर किए कि टी20 वर्ल्ड कप से पहले वह कुछ और मैचों में पारी की शुरुआत करेंगे। कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘मैं आईपीएल में भी पारी की शुरुआत करूंगा।’ उन्होंने कहा, ‘मैंने पहले अलग-अलग पोजीशन पर बैटिंग की है लेकिन अब मुझे लगता है कि हमारे पास काफी मजबूत मिडल-ऑर्डर है और अब वक्त आ गया है कि आपके दो सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज टी20 में सबसे ज्यादा गेंदों का सामना करें। तो मैं बेशक रोहित के साथ टी20 में पारी की शुरुआत करना चाहूंगा।’

कोहली की यह बात बताती है कि भारतीय कप्तान क्रिकेट के इस सबसे छोटे फॉर्मेट में पारी की शुरुआत करने को लेकर कितने गंभीर हैं। कोहली ने कहा, ‘हमारी पार्टनरशिप अच्छी चले और हम दोनों सेट हों। तो आप जानते ही हैं कि हमसे कोई भी किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हम यही चाहते हैं। साथ ही अगर हममें से कोई एक भी विकेट पर है तो अन्य बल्लेबाजों को भी काफी विश्वास मिलता है और वे भी काफी खुलकर खेल कते हैं। यह टीम के लिए अच्छा है और मैं इसे जारी रखना चाहूंगा। मुझे उम्मीद है कि मैं वर्ल्ड कप में भी इसी फॉर्म को जारी रख पाऊंगा।’

अगर भारत का कैलेंडर देखें तो इंग्लैंड के खिलाफ हुई यह सीरीज टी20 वर्ल्ड कप से पहले भारत के आखिरी टी20 मैच थे, हालांकि भारतीय कप्तान ने उम्मीद जताई कि टीम को और मैच मिल सकते हैं।

उपकप्तान रोहित शर्मा की राय हालांकि कोहली से जरा अलग है। मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में रोहित ने कहा, ‘वर्ल्ड कप में अभी काफी समय है। बैटिंग लाइनअप के बारे में अभी से बात करना जल्दबाजी होगी। हमें चीजों को देखना होगा और उसके बाद टीम के लिए बेस्ट फैसला लेना होगा। आज की बात करें तो मुझे लगता है कि हम एक अतिरिक्त गेंदबाज को मौका देना चाहते थे और इसी वजह से एक बल्लेबाज को बाहर बैठना पड़ा और दुर्भाग्य से वह केएल राहुल थे। यह काफी मुश्किल फैसला था।’

रोहित ने कहा, ‘टी20 सीरीज अभी खत्म हुई है और मुझे लगता है कि विराट वनडे में ओपनिंग नहीं करेंगे (हंसते हुए)। तो अगले पड़ाव के बारे में बात करते हैं। एक टीम के तौर पर हम सीरीज को बहुत अच्छी तरह खेले। हर किसी ने जीत में योगदान दिया, यह देखना काफी अच्छा रहा।’

यूं तो विराट कोहली ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत सलामी बल्लेबाज के रूप में ही की थी। उन्होंने साल 2008 में श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में सचिन तेंडुलकर की गैर-मौजूदगी में ओपनिंग ही की थी लेकिन अब वह सीमित ओवरों के प्रारूप में नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते हैं।

कोहली को इस फॉर्मेट में दुनिया का बेस्ट खिलाड़ी कहा जाता है। कोहली ने हालांकि यह नहीं कहा है कि वह 50 ओवरों के प्रारूप में भी पारी की शुरुआत करना चाहते हैं लेकिन क्या पता अगर टी20 में उनका प्रयोग लगातार सफल हो जाता है तो भारतीय कप्तान अपने आइडल सचिन तेंडुलकर की तरह इस बारे में भी विचार करने लगें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here