केजरीवाल सरकार ने CBSE से अलग बनाया ‘दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन’, 25-30 स्कूल होंगे शामिल

0
85
Arvind-kejriwal
Webvarta Desk: दिल्ली कैबिनेट (Delhi Cabinet) ने राज्य में स्कूली शिक्षा के लिए दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (Delhi Board of School Education) के गठन को मंजूरी दे दी है।

सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने आज इसका औपचारिक एलान करते हुए कहा कि दिल्ली के पास अब अपना अलग शिक्षा बोर्ड (Delhi Board of School Education) होगा। केजरीवाल ने कहा कि ये बोर्ड 3 लक्ष्य पूरे करेगा। हमें ऐसे बच्चे तैयार करने हैं जो कट्टर देशभक्त हों और आने वाले समय में हर क्षेत्र में देश की ज़िम्मेदारी अपने कंधों पर उठाने के लिए तैयार हों। हमारे बच्चे अच्छे इंसान बने और ये बोर्ड बच्चों को अपने पैरों पर खड़ा होने के लिए तैयार करेगा।

बनाएंगे अंतरराष्ट्रीय स्तर का बोर्ड

सीएम केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने कहा कि ये अंतरराष्ट्रीय स्तर का बोर्ड बनाया जा रहा है। इंटरनेशनल प्रैक्टिस को हम स्कूलों और बोर्ड में लेकर आएंगे। इस साल 20-25 सरकारी स्कूलों को इस बोर्ड में शामिल किया जाएगा। हमें उम्मीद है कि 4-5 साल में स्वेच्छा से सारे सरकारी, निजी स्कूल बोर्ड में शामिल हो जाएंगे।

दिल्ली के लगभग 2700 स्कूलों के लिए दिल्ली सरकार ने अलग बोर्ड का गठन किया है। केजरीवाल ने कहा कि शुरुआत में दिल्ली सरकार के 21-22 सरकारी स्कूलों को दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (Delhi Board of School Education) से जोड़ा। इसके बाद अगले चार-पांच सालों में सभी स्कूलों को दिल्ली स्कूली शिक्षा बोर्ड से जोड़ा जाएगा। बता दें कि दिल्ली में एक हजार सरकारी स्कूल और लगभग 1,700 निजी स्कूल हैं। इनमें से ज्यादातर सीबीएसई से मान्यता प्राप्त हैं।

केजरीवाल ने कहा कि नए दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (Delhi Board of School Education) बोर्ड का एक संचालन मंडल होगा जिसके अध्यक्ष दिल्ली सरकार के शिक्षा मंत्री होंगे। इसके अलावा एक कार्यकारी खंड भी होगा और एक मुख्य कार्यकारी अधिकारी उसके प्रमुख होंगे। उन्होंने कहा कि डीबीएसई का उद्देश्य ऐसी शिक्षा देना होगा जो छात्रों में देशभक्ति और आत्मनिर्भरता का संचार करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here