5 रूपये बिजली के झूठे वायदे की पोल खुल गई पंजाब सरकार की

0
250
Punjab government

-झूठे वायदों के खिलाफ व्यापारियों की रोष मीटिंग

-कैप्टन सरकार 5 रूपये बिजली के किए गए वायदे

लुधियाना, 30 मई (राजकुमार शर्मा)। पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल की ओर से रोष बैठक का आयोजन समिट्री रोड स्थित सुनील मेहरा के निवास स्थान पर किया गया। इस रोष बैठक में सुनील मेहरा, पवन लहर, अरविंद मक्कड़, बलजीत मक्कड़, संजय गुप्ता, हरकेश मित्तल और राजीव अरोड़ा उपस्थित थे।

पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल के जनरल सैक्टरी सुनील मेहरा ने बताया कि कैप्टन सरकार ने लोगों को जिनके घर में 2 किलोवाट लोड है, इनको पहले 100 यूनिट के लिए 4 रूपये 49 पैसे देते थे अब वह उसमें से 1 रुपये कम करके इन्हें 3 रूपये 49 पैसे देने होगें और अगले 101 से 300 यूनिट के लिए जो पहले 6 रूपये 34 पैसे देते थे अब उसमें से 50 पैसे की कटौती कर 5 रूपये 84 पैसे देने होंगे। जिनके घर का लोड 2 से 7 किलो वाट का है उनको पहले 100 यूनिट के 4 रूपये 49 पैसे देते थे अब उसमें से 75 पैसे की कटौती कर अब उनको 3 रूपये 74 पैसे देने होंगे।

उससे अगले 101 से 300 यूनिट तक जो पहले 6 रूपये 34 देते थे अब 50 पैसे की कटौती का ₹5 और आशीष पैसे देने होंगे उसके बाद अगले 300 यूनिट से ऊपर ₹7 30 पैसे जो पहले देते थे वह उसमें कोई भी कटौती नहीं की गई और जिनका लोड 17 से 50 किलो वाट का है उनको पहले 100 यूनिट के लिए जो पहले 4 रूपये 49 पैसे देते थे अब उनको 15 पैसे की बढ़ौतरी कर 4 रूपये 64 पैसे देने होंगे।

इससे अगले 101 से 300 यूनिट के लिए जो पहले 6 रूपये 34 पैसे देते थे उसमें 16 पैसे की बढ़ोतरी कर उनको 6 रूपये 50 पैसे देने होंगे और उसके बाद 300 से ऊपर 7 रूपये 30 पैसे जो पहले देते थे उसने 20 पैसे की बढ़ोतरी कर अब उनको 7 रूपये 50 पैसे देने होगे। 50 से 100 किलो वाट लोड के जो पहले 6 रूपये 33 पैसे देते थे उनको अब भी पहले जैसे ही देने होगें। यही पर अरविंदर सिंह मक्कड़ ने कहा कि 5 फीसदी शहरी विकास सैस और गाय सैस लागू रहेगा।

उद्योग के लिए नए टैरिफ को देखकर बहुत दुख हुआ। एल एस के लिए फिक्स चार्ज 20 रुपये प्रति किलो वाट और टैरिफ में 0.07 पैसे प्रति किलो वाट की वृद्धि हुई। यह क्या कैप्टन सरकार के लिये कोविड़ और लॉकडाउन के समय में राहत दी है। सरकार का आखिरी समय चल रहा है। कुछ ही महीनों के बाद चुनाव कमीशन की ओर से कंटेंप्ट ऑफ कोठ लग रहा है और पंजाब में कैप्टन सरकार की कारगुजारी की मुँह बोलती तस्वीर जिसमें पंजाब के इंडस्ट्री और ट्रेड को निराश और नाराज किया है।

बैठक को संबोधित करते पवन लहर ने कहा कि आज पंजाब में 50, 000 छोटी और बड़ी इंडस्ट्री सरकार की व्यापार और उद्योग की नीतियों के कारण पंजाब से बाहरी राज्यों में पलायन कर गई हैं। कोई इंडस्ट्री हिमाचल, गुजरात, महाराष्ट्र, मुंबई, साउथ और कई बाहर विदेशों में भी बड़े-बड़े यूनिट चले गए हैं। इस दुखदाई घटना में सरकार की घोषणा कि यहां पर नई इंडस्ट्री आएगी और अपने यूनिट यहां लगाएगी और आज ना ही कोई यहां इंडस्ट्री आई और ना ही किसी और ने कोई इंडस्ट्री यहां लगाई।

बशर्ते पंजाब से 30000 और 50, 000 के लगभग यूनिट पंजाब से पलायन चले गए हैं क्योंकि यहां पंजाब में जितनी महंगी बिजली, डीजल और कच्चा माल यहां पर मिलता है इसके अलावा पंजाब में कहीं भी नहीं मिलता इसका भारी भरकम बोझ पंजाब की इंडस्ट्री सहन नहीं कर सकती। इस कोरोना महामारी के अंदर यहां सरकार ने हमारे जख्मों पर नमक छिड़का है।

इस रोष बैठक को संबोधन करते हरकेश मित्तल ने कहा कि हम पंजाब की इंडस्ट्री को बचाने के लिए पंजाब में कोरोना महामारी के कारण 500000 लेबर जो 2020 में यहां से गई थी अभी तक वह वापस नहीं आई और इसके साथ ही 300000 लेबर पंजाब सरकार की नीतियों के कारण दुखी होकर पंजाब से पलायन कर गई है। यहां पंजाब की 50 प्रतिशत इंडस्ट्री बंद हो गई है। पंजाब की 50 प्रतिशत जरूरी और गैर जरूरी दुकाने बंद हो गए हैं। यहां फैक्ट्रियों में लेबर और दुकानों पर काम करने वालों की छटनी शुरू हो गई है। और लोगों को बेरोजगारी का सामना करना पड़ गया है। जहां एक तरफ लोगों कोरोना महामारी की मार पड़ी है।

वहीं दूसरी तरफ पंजाब सरकार की व्यापार विरोधी नीतियों ने लोगों की कमर तोड़ दी है। आज एक बहुत ही दुखदाई घटना है जो कि पंजाब सरकार ने लोगों के साथ बहुत बड़ा मजाक किया है। जहां एक तरफ मार कोरोणा की मार लोगों को पड़ी है तो वहीं दूसरी तरफ पंजाब सरकार की व्यापार विरोधी और बिजली की नीतियों ने लोगों की कमर तोड़ दी है। पंजाब सरकार ने कहा है कि छोटे गरीब लोगों के लिए जिनका बहुत ही कम बिजली का कनेक्शन है उनको यह राहतें दी जायेगीं।

आज पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल पंजाब सरकार से पूछता है कि पंजाब सरकार ने पहले कहा था कि पंजाब में लोगों को 4 रूपये 99 पैसे में प्रति यूनिट बिजली दी जाएगी। आज पंजाब में लोगों को 10 रूपये से लेकर 11 रुपए प्रति यूनिट बिजली के बिल लोगों को दिए जा रहे हैं आज पंजाब के लोगों का जीना मुश्किल हो गया है यहां लॉकडाउन के अंदर दुकानें बंद बिजली के बिल पूरे लिये जा रहे हैं कोई भी राहत पंजाब सरकार ने व्यापारियों और दुकानदारों को नहीं दी है।

पंजाब सरकार ने बिजली के फिक्स चार्जेस भी और बढ़ा दिए हैं और इंडस्ट्री पर और बोझ डाल दिया गया है। जो पंजाब सरकार की अपनी कमजोरियां हैं। उसको छुपाने के लिए छोटे व्यापारियों के साथ दुखदाई घटना की है यहां पंजाब सरकार की इंडस्ट्री व्यापार और हर लोग दुखी इस दुख की घड़ी में जो यह पंजाब सरकार की घोषणा है यह व्यापारी और गरीब इंडस्ट्री के ऊपर मल्लम नहीं नमक छिड़केगी। जे अगर कैप्टन सरकार ईमानदार है और कैप्टन सरकार कुछ करना चाहती है तो 4 रूपये 99 पैसे पर प्रति यूनिट बिजली देने का वादा पूरा करें। आज लाखों रुपए की सब्सिडी अमीर किसानों को दी जा रही है।

आज व्यापार मंडल कहता है कि जिन किसानों के पास 5 से 7 एकड़ जमीन है उनको बिजली मुफ्त दी जाए। जो अमीर किसान हैं वह बिजली के बिल दे सकते हैं उनको बिजली के बिल दिए जाने चाहिए उनको बिजली के बिल माफ और हमारी कमर तोड़ना यह पंजाब की इंडस्ट्री के लिए विनाशकारी साबित होगा। कैप्टन साहब 2022 के चुनाव आ गए हैं और अब जल्दी ही पंजाब में कोड ऑफ कंडैमप्ट लग जाएगा। आपको पंजाब की जनता हिसाब पूछेगी और आपने पंजाब की इंडस्ट्री को तबाह और बर्बाद किया है आपने करोना बनकर पंजाब की इंडस्ट्री और शहरी लोगों को खाली कर दिया हैं और पंजाब के लोग आज बेरोजगार हो गए हैं।

पंजाब में लोगों का व्यापार बंद हो गया है और पंजाब में लोगों के काम आने वाले प्रोडक्ट महंगे हो गए हैं। पंजाब सरकार जल्द ही 4 रूपये 99 पैसे प्रति यूनिट की दर से बिजली देने की घोषणा करें आपने जो हमारी आंखों से बहने वाले आंसुओं को साफ करने का काम किया है। यह बिल्कुल भी पंजाब सरकार के लिए ठीक नहीं है हमसे चुनाव से पहले जो वादे किए हैं उसको पूरा करें जो कि आने वाले चुनावों में जो पंजाब की सड़कों पर आपने 5 रूपये प्रति यूनिट की दर से बिजली देने के लिए बोर्ड लगाए हैं वह आपकी गल्त नीतियों की मुंह बोलती तस्वीर है। आपको इसके लिए शर्मसार होना चाहिए।

पंजाब की इंडस्ट्री को आपने बहुत दुखी किया हुआ है आपका कोई भी सांसद और विधायक हमारे साथ बातचीत करने को तैयार नहीं है और हमारी आप तक आवाज पहुंचाने के लिए भी तैयार नहीं है और अब इसके लिए आपको आने वाले चुनावों में व्यापारी बताएगा कि जिसने व्यापारियों का साथ दिया है। व्यापारी उसके साथ चलेगा जिन्होंने व्यापारियों की कमर तोड़ी है वह व्यापारी उनकी कमर तोड़ने के लिए तैयार बैठे हैं इंतजार है चुनाव का यह लोग आने वाले चुनावों की इंतजार में बैठे हैं अगर आपने करना है तो 4 रूपये 99 पैसे प्रति यूनिट बिजली देने का वायदा पूरा करो नहीं तो हमें आपकी जो राहतें दी है वह हमें किसी भी प्रकार से मंजूर नहीं है।

इसके साथ ही आपने बड़ी इंडस्ट्री के लिए बिजली के रेट और बढ़ा दिए हैं और गरीब लोगों के नाम पर आपने धोखा किया है आपने जो हमारे साथ वादा किया है उसको पूरा करें नहीं तो हमारी इंडस्ट्री बंद होगी जिसके जिम्मेदार आप होंगे। पंजाब सरकार किसानों को फ्री बिजली 9500 करोड के लगभग देती है इसका सारा बोझ और पंजाब वासियों के ऊपर पड़ता है। पंजाब सरकार फ्री बिजली जो किसानों को देने की योजना है उसको बंद करें उसका घटा इंडस्ट्री और पंजाब वासियों से बंद कर कर इंडस्ट्री को राहत दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here