Parambir Singh 100 Cr Letter: अनिल देशमुख की सफाई- ‘जांच से बचने को झूठा आरोप लगा रहे परमबीर सिंह’

0
175
Webvarta Desk: बिजनेसमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर के बाहर जिलेटिन से भरी स्‍कॉर्पियो मिलने के मामले में कुछ दिन पहले मुंबई के पुलिस कमिश्‍नर पद से हटाए गए परमबीर सिंह (Parambir Singh Letter) ने महाराष्‍ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर बड़ा सनसनीखेज आरोप लगाया है।

इस पर अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने सफाई देते हुए आरोपों से इनकार किया है। देशमुख का कहना है कि परमबीर सिंह (Parambir Singh Letter) कार्रवाई से बचने के लिए झूठा आरोप लगा रहा है।

दरअसल शनिवार को मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को परमबीर सिंह ने एक पत्र लिखा है। पत्र में परमबीर सिंह (Parambir Singh Letter) ने आरोप लगाया है कि एंटीलिया केस में सस्‍पेंड किए गए एनकाउंटर स्‍पेशलिस्‍ट सचिन वझे (Sachin Waze) को अनिल देशमुख ने हर महीने 100 करोड़ रुपये कलेक्‍ट करने के लिए कहा था।

झूठे आरोप लगा रहे परमबीर सिंह: अनिल देशमुख

दूसरी ओर, इस पूरे मामले में गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने अपनी सफाई पेश की है। उन्‍होंने कहा कि परमबीर सिंह सचिन वझे मामले में खुद को कानूनी करवाई से बचाने के लिए झूठा आरोप लगा रहे हैं। देशमुख ने कहा कि मुकेश अंबानी सहित मनसुख हिरेन केस में भी सचिन वझे की संलिप्‍तता स्‍पष्‍ट हो रही है और जांच की आंच परमबीर सिंह तक भी पहुंच सकती है।

बीजेपी ने कहा- देशमुख को तुरंत पद से हटाए उद्धव सरकार

इस बीच, बीजेपी ने महाराष्‍ट्र सरकार पर निशाना साधा है। बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता किरीट सौमैया ने कहा कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्‍नर ने कहा है कि मुंबई में जबरन वसूली चल रही थी और सचिन वझे गृह मंत्री के एजेंट थे। बीयर बार और अन्‍य जगहों से पैसे वसूले जा रहे थे। अनिल देशमुख को अब पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। उन्‍हें पद से हटा देना चाहिए।

अनिल देशमुख और परमबीर सिंह और सचिन वज़े का हो नारको टेस्ट

परमबीर सिंह के आरोपों पर हमला बीजेपी सांसद मनोज कोटक का कहना है कि ये एक्सटॉर्शन की सरकार है। 100 करोड़ की उगाही का ये सच सामने आने के लिए गृहमंत्री अनिल देशमुख और परमबीर सिंह और सचिन वज़े इन तीनों का नारको टेस्ट होना चाहिए।

Webvarta Desk: बिजनेसमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर के बाहर जिलेटिन से भरी स्‍कॉर्पियो मिलने के मामले में कुछ दिन पहले मुंबई के पुलिस कमिश्‍नर पद से हटाए गए परमबीर सिंह (Parambir Singh Letter) ने महाराष्‍ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर बड़ा सनसनीखेज आरोप लगाया है।

इस पर अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने सफाई देते हुए आरोपों से इनकार किया है। देशमुख का कहना है कि परमबीर सिंह (Parambir Singh Letter) कार्रवाई से बचने के लिए झूठा आरोप लगा रहा है।

दरअसल शनिवार को मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को परमबीर सिंह ने एक पत्र लिखा है। पत्र में परमबीर सिंह (Parambir Singh Letter) ने आरोप लगाया है कि एंटीलिया केस में सस्‍पेंड किए गए एनकाउंटर स्‍पेशलिस्‍ट सचिन वझे (Sachin Waze) को अनिल देशमुख ने हर महीने 100 करोड़ रुपये कलेक्‍ट करने के लिए कहा था।

झूठे आरोप लगा रहे परमबीर सिंह: अनिल देशमुख

दूसरी ओर, इस पूरे मामले में गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने अपनी सफाई पेश की है। उन्‍होंने कहा कि परमबीर सिंह सचिन वझे मामले में खुद को कानूनी करवाई से बचाने के लिए झूठा आरोप लगा रहे हैं। देशमुख ने कहा कि मुकेश अंबानी सहित मनसुख हिरेन केस में भी सचिन वझे की संलिप्‍तता स्‍पष्‍ट हो रही है और जांच की आंच परमबीर सिंह तक भी पहुंच सकती है।

बीजेपी ने कहा- देशमुख को तुरंत पद से हटाए उद्धव सरकार

इस बीच, बीजेपी ने महाराष्‍ट्र सरकार पर निशाना साधा है। बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता किरीट सौमैया ने कहा कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्‍नर ने कहा है कि मुंबई में जबरन वसूली चल रही थी और सचिन वझे गृह मंत्री के एजेंट थे। बीयर बार और अन्‍य जगहों से पैसे वसूले जा रहे थे। अनिल देशमुख को अब पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। उन्‍हें पद से हटा देना चाहिए।

अनिल देशमुख और परमबीर सिंह और सचिन वज़े का हो नारको टेस्ट

परमबीर सिंह के आरोपों पर हमला बीजेपी सांसद मनोज कोटक का कहना है कि ये एक्सटॉर्शन की सरकार है। 100 करोड़ की उगाही का ये सच सामने आने के लिए गृहमंत्री अनिल देशमुख और परमबीर सिंह और सचिन वज़े इन तीनों का नारको टेस्ट होना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here