कोरोना काल में दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की हुई चांदी, चालान से वसूले 124 करोड़ का जुर्माना

0
109
Webvarta Desk: Delhi Traffic Police Challan In Corona: पिछले साल इन्हीं दिनों दिल्ली में कोरोना दस्तक (Corona in Delhi) दे चुका था। मार्च की शुरुआत से ही पाबंदियों का सिलसिला शुरू हो गया था और फिर 24 मार्च से लॉकडाउन (Lockdown) ही लग गया, जिसकी वजह से लोग अपने घरों में बंद रहने को मजबूर हो गए।

केवल आवश्यक सेवाओं से जुड़े वही लोग अपने घरों से निकल पा रहे थे, जिन्हें पुलिस और प्रशासन की तरफ से विशेष पास जारी किए थे। मई के अंत तक दिल्ली की सड़कों पर कमोबेश सन्नाटा ही पसरा रहा और जब अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई, तभी धीरे-धीरे लोग अपने घरों से निकल सके।

2019 की तुलना में 2020 में ज्यादा चालान

ऐसे में करीब तीन-चार महीने तक सड़कों पर न तो ज्यादा ट्रैफिक था और ना ट्रैफिक रूल तोड़ने वाले ज्यादा लोग थे। यहां तक कि कोविड के डर के चलते ट्रैफिक पुलिस ने ऑन स्पॉट चालान काटने (Delhi Traffic Police Challan In Corona) पर पूरी तरह रोक तक लगा दी थी, जो कई महीनों तक जारी रही। ऐसे में जाहिर तौर पर यही सोचने में आएगा कि फिर तो 2019 के मुकाबले 2020 में ट्रैफिक पुलिस ने कम ही चालान काटे होंगे, मगर हुआ इसका उल्टा।

दिल्ली पुलिस की सालान प्रेस कॉन्फ्रेंस में जो आंकड़े पेश किए गए, वो किसी को भी हैरान कर सकते हैं। ये आंकड़े बताते हैं कि 2019 के मुकाबले 2020 में ट्रैफिक पुलिस ने कोविड और लॉकडाउन के बावजूद ज्यादा चालान काटे, जिसकी बदौलत जुर्माने में वसूली (Delhi Traffic Police Recovered More Than 124 Crore Rupees Fine) गई रकम 100 करोड़ का आंकड़ा भी पार कर गई।

बीते साल कुल 1,38,02,975 चालान काटे गए

ट्रैफिक पुलिस के स्पेशल कमिश्नर ताज हसन ने बताया कि 2019 में जहां अलग-अलग ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन में कुल 1,05,80,249 चालान काटे गए थे, वहीं पिछले साल कुल 1,38,02,975 चालान काटे गए।

सबसे खास बात यह है कि इस दौरान ट्रैफिक रूल तोड़ने वाले लोगों से ट्रैफिक पुलिसकर्मियों का आमना-सामना बेहद कम हो गया, क्योंकि ज्यादातर चालान कैमरों के जरिए मिले सबूत के आधार पर काटे गए। यही वजह रही कि 2019 में जहां ट्रैफिक पुलिस ने 51 लाख नोटिस चालान जारी किए थे, वहीं 2020 में नोटिस चालानों की संख्या दोगुनी से भी ज्यादा बढ़कर 1.27 करोड़ तक पहुंच गई।

2020 में मैनुअल चालान में 4 गुना की कमी

वहीं दूसरी ओर 2019 में 54 लाख से ज्यादा ऑनस्पॉट चालान काटे गए थे, लेकिन 2020 में उनकी संख्या घटकर 10 लाख ही रह गई। यानी 2019 के मुकाबले पिछले साल चालान तो ज्यादा कटे, लेकिन ट्रैफिक पुलिस के द्वारा मैनुअल तरीके से काटे जाने वाले चालानों की संख्या में चार गुना तक की कमी आ गई। इससे न केवल भ्रष्टाचार के आरोपों में कमी आई, बल्कि ज्यादातर चालानों का निपटारा कोर्ट के द्वारा किए जाने की वजह से चालान के निपटारे में ट्रैफिक पुलिस की भूमिका भी कम हो गई और कोर्ट के द्वारा ही जुर्माना लगाया गया।

कैमरों पर आधारित एनफोर्समेंट को बढ़ावा

ताज हसन ने बताया कि ट्रैफिक पुलिस ने पिछले साल अवैध पार्किंग, डेंजरस ड्राइविंग, ट्रिपल राइडिंग और बिना हेलमेट पहने गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ खासतौर से सख्ती बरती और कैमरों पर आधारित एनफोर्समेंट को बढ़ावा दिया।

इसके तहत दिल्ली में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 24 जंक्शंस पर थ्री डी रडार आधारित रेडलाइट वॉयलेशन डिटेक्शन सिस्टम लगाया गया है, तो वहीं 100 जगहों पर रडार आधारित ओवर स्पीडिंग डिटेक्शन सिस्टम लगाया गया है। उसी का एक अच्छा नतीजा दिल्ली में जानलेवा सड़क हादसों में आई कमी के रूप में देखने को मिला।

2020 में जानलेवा सड़क हादसों की संख्या में 19 पर्सेंट की कमी

ताज हसन ने बताया कि 2018 के मुकाबले 2019 में जहां 14 पर्सेंट कम फेटल एक्सिडेंट्स हुए थे, वहीं 2019 के मुकाबले 2020 में जानलेवा सड़क हादसों की संख्या में 19 पर्सेंट की कमी आई, जो पिछले 37 सालों में सर्वाधिक है।

स्पेशल सीपी के मुताबिक, दिल्ली में 6 अन्य जंक्शंस पर रेडलाइट वॉयलेशन और 25 जगहों पर स्पीड डिटेक्शन कैमरे और लगाए जा रहे हैं। यह काम मार्च तक पूरा हो जाएगा, जिसके बाद इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम को पूरी तरह लागू करने की दिशा में काम तेज किया जाएगा। इसकी डीटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट 8-9 महीने में तैयार हो जाएगी, जिसके बाद उस पर आगे काम शुरू किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here