मनसुख हिरेन को था जान का खतरा, पुलिस कमिश्‍नर को लेटर लिख मांगी थी सुरक्षा

0
68
Webvarta Desk: मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर एंटीलिया (Antilia) के बाहर विस्‍फोटकों से लदी स्‍कॉर्पियो मामले में संदिग्‍ध मनसुख हिरेन (Mansukh Hiren) का एक लेटर सामने आया है।

हिरेन (Mansukh Hiren) ने अपनी मौ’त से पहले पुलिस कमिश्‍नर (Mumbai Police Commissioner) को भेजे लेटर में लिखा है कि पुलिस और मीडिया उन्‍हें परेशान कर रहे हैं। मनसुख हिरेन को पिछले हफ्ते मुंबई पुलिस मुख्यालय में पूछताछ के लिए बुलाया गया था। शुक्रवार को उनका शव मुंब्रा के रेती बंदर से मिला था।

अपने इस लेटर में मनसुख (Mansukh Hiren) ने लिखा था कि पुलिस अधिकारी और मीडिया अपने सवालों से उन्हें परेशान कर रहे हैं। इसके अलावा मनसुख ने कानूनी कार्रवाई की मांग करते हुए पुलिस सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की थी।

असली मालिक नहीं थे मनसुख

ठाणे के नौपाडा में मनसुख की दुकान थी। वह ठाणे में खोपट सिग्नल के पास विकास पाम टावर में पत्नी और तीन बच्चों के साथ रहते थे। मनसुख हिरेन को पिछले हफ्ते मुंबई पुलिस मुख्यालय में पूछताछ के लिए बुलाया गया था। यह भी खुलासा हुआ है कि मनसुख उस कार के असली मालिक नहीं थे।

स्‍कॉर्पियो चोरी होने की बात

मनसुख ने पुलिस को बताया था कि 17-18 फरवरी की रात उनकी स्कॉर्पियो कुछ टेक्निकल कारण से विक्रोली हाइवे पर खराब हो गई थी। इसलिए उन्होंने उसे वहीं छोड़ दिया था। कुछ घंटे बाद जब वह वहां से लौटे, तो उनकी वह गाड़ी चोरी हो गई थी। मनसुख की स्कॉर्पियो कार को चोरी कर उसे मुकेश अंबानी की बिल्डिंग के बाहर छोड़ने वाले की शिनाख्त नहीं हुई है।

फडणवीस ने पुलिस अधिकारी को घेरा

पूर्व सीएम और नेता प्रतिपक्ष फडणवीस ने मामले की एनआईए जांच की मांग करते हुए मुंबई पुलिस के एक अधिकारी सचिव वझे को भी संदेह के घेरे में खड़ा किया है। फडणवसी ने दावा किया है कि हिरेन ठाणे में अपनी गाड़ी खराब होने के बाद क्रॉफर्ड मार्केट आए। वहां हिरेन किससे मिले, यह सबसे अहम कड़ी है। वह जिस ओला कार से क्रॉफर्ड मार्केट पहुंचे थे, उसके चालक से पूछताछ में अहम खुलासे हो सकते हैं। उन्होंने इस बात पर भी सवाल उठाए कि वझे ठाणे में रहते हैं और वारदात में इस्तेमाल दोनों कारें भी ठाणे से ही आईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here