मुफ़्ती ए आज़म भारत हज़रत शैख़ अबूबकर अहमद और ब्रह्मश्री स्वामी विद्यानंद की मुलाक़ात

0
333
धार्मिक सद्भाव और गंगा जमुनी तहज़ीब के फ़रोग़ के लिए के लिए संयुक्त पहल पर रजामंदी

कालीकट: मुहम्मद याहया सैफ़ी

श्री नारायण विश्व अनुसंधान एवं शांति केंद्र के अध्यक्ष और शिवगिरि मठ के एक वरिष्ठ भिक्षु, ब्रह्मश्री स्वामी विद्यानंद ने भारत के मुफ़्ती ए आज़म हज़रत शैख़ अब बकर अहमद से मरकज़ नॉलेज सिटी, कैथाफॉयिल, कालीकट में मुलाकात की। ब्रह्मश्री स्वामी विद्यानंद ने शेख अबूबक्र अहमद और मरकज़ के तमाम संस्थानों की शैक्षिक और धर्मार्थ गतिविधियों पर प्रसन्नता व्यक्त की। शेख अबूबक्र अहमद और स्वामी विद्यानंद ने विभिन्न धर्मों के बीच सौहार्द और मधुर संबंधों को बनाए रखने के लिए एक संयुक्त वक्तव्य पर भी दस्तख़त किए और शांति और एकता फैलाने पर काम करने पर सहमति व्यक्त की।

मुल्क की दोनो ही अज़ीम शख़्सियात ने घोषणा की कि “धर्म और विश्वास मानवीय गुण और भलाई के लिए मौजूद हैं; इसलिए, मानव कृत्यों को शांति और दुनिया की गरिमा के संदर्भ में होना चाहिए। धर्म जो भी हो वो मानवता को विभाजित नहीं करते हैं, बल्कि मानवता को एकजुट करते हैं। हमारे राष्ट्र ने विभिन्न धर्मों में लोगों की एकता पर निर्माण किया है। और अनेकता में एकता ही हमारे भारत की पहचान है केरल राज्य ने प्रेम और सद्भाव का एक अच्छा उदाहरण सामने रखा है। इसलिए, यह अनुरोध किया जाता है कि सद्भावों को नष्ट करने और लोगों को विभाजित करने वाले अभियानों और प्रचारों से दूर रहें।

हमें अपने देश को, जो कि प्रेम का स्वर्ग है इसके भाईचारे को और भी मज़बूत करना चाहिए। हमे भारत देश को असहिष्णुता और नस्लवाद का नरक नही बनने देना है इससे हमें मुल्क की हिफाज़त मिलजुल कर करनी है धार्मिक नेताओं को विभिन्न धर्मों में सद्भाव और लोगों की एकता को बढ़ावा देने के लिए प्रयास करना चाहिए “।

श्रीनारायण वर्ल्ड रिसर्च एंड पीस फाउंडेशन और मरकज़ सकाफ़ा सुननिया ने संयुक्त रूप से इस संबंध में जारी एक प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किए और दुनिया भर में लोगों की बेहतरी के लिए समर्थन मांगा। मरकज नॉलेज सिटी के प्रबंध निदेशक डॉ मुहम्मद अब्दुल हकीम अल कांडी ने स्वागत भाषण दिया। मरकज़ के महाप्रबंधक सी. मुहम्मद फैजी, श्री नारायण विश्व अनुसंधान और शांति केंद्र के महासचिव बीजू देवराज और श्री नारायण विश्व अनुसंधान और शांति केंद्र के सलाहकार और ट्रस्टी एडवोकेट अनिल थॉमस भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here