Rahul Gandhi in Assam: असम में मोदी-शाह पर बरसे राहुल- ‘कुछ भी हो जाए CAA लागू नहीं होने देंगे’

0
149
Webvarta Desk: Rahul Gandhi in Assam: कांग्रेस नेता राहुल गांधी चुनावी राज्य असम में पहुंचे हैं। यहां उन्होंने विधानसभा चुनाव (Assam Election) अभियान की शुरुआत की। राहुल गांधी ने शिवसागर जिले के शिवनगर बोर्डिंग फील्ड से रैली (Rahul Gandhi Rally in Assam) को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई की जमकर तारीफ की और बीजेपी पर निशाना साधा।

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए सीएए नहीं होगा। उन्होंने शरीर पर पड़े उस गमछे को दिखाया जिस पर सीएए लिखा था और उस पर क्रॉस लगा था। उन्होंने कहा कि हम दो हमारे दो कान खोलकर सुन लो कि सीएए नहीं होगा।

‘असम को तोड़कर चोरी करना चाहते हैं’

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने 100-50 रुपये के नोट और कुछ सिक्के दिखाते हुए कहा कि वह इससे बताएंगे कि बीजेपी देश में सीएए इसलिए लाना चाहती है। उन्होंने कहा कि असम के मजदूरों को 167 रुपये मिलते हैं और गुजरात के कारोबारियों को टी गार्डन देते हैं। मोदी जानते हैं कि असम को तोड़कर ही वह यहां से चोरी कर सकते हैं।

देश को चला रहे सिर्फ चार लोग

राहुल (Rahul Gandhi) ने कहा, ‘हम दो, हमारे दो.. बाकी सब मर लो…असम से सबकुछ लो… देश को सिर्फ चार लोग चला रहे हैं। सब कुछ बोले बजट में लेकिन किसानों को कुछ नहीं दिया। असम में जाओ, बांटों और जो है वह ले लो… बस इतना ही। जो आपका है वह यह चाहते हैं। वह जानते हैं कि असम में आग लगा दी तो जा चाहें वह ले सकते हैं।’

‘तरुण गोगोई से सीखा बहुत कुछ’

कांग्रेस सांसद ने कहा कि बाहर से आने वालों के लिए छोटा प्रदेश है। अलग धर्म, अलग जाति अलग भाषाएं… जब मैं आता था तब हर यात्रा पर तरुण गोगोई असम के बारे में ज्ञान देते थे। जो जानकारी थी वह तरुण गोगोई बढ़ाते थे। हर बार होकर जाता तो सीखकर जाता था।

‘तरुण गोगोई ने असम में खत्म की हिंसा’

एक बार यहां हिंसा का समय था। मुझे बताया कि पब्लिक मीटिंग में जाते थे, पता नहीं होता था कि वापस आएंगे। मतलब यह नहीं पता था कि जिंदा रहेंगे कि नहीं। लेकिन कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जोखिम लेकर पब्लिक मीटिंग में जाते थे। टीम में बड़े नेता थे जो असम को जोड़ने के काम करते थे। हिंसा खत्म करने का काम किया।

‘मोदी की हां हुजूरी करने वाले ब्यूरोक्रेट के साथ तरुण गोगोई का नाम, अपमान’

राहुल ने कहा कि मुझे बताया गया कि जो पुरस्कार असम के सिपाही तरुण गोगोई को दिया गया। उस व्यक्ति को जिसने इस प्रदेश को जोड़ा, जिसने पूरी जिंदगी इस प्रदेश को जोड़ने में लगा दी उसी लिस्ट में पीएम दफ्तर के एक ब्यूरोक्रेट का नाम था। दुख हुआ कि हिंदुस्तान की सरकार ने तरुण गोगोई और असम का अपमान किया। एक व्यक्ति जिसने अपनी राज्य को जिंदगी दे दी असम को जोड़ा, भारत के झंडे की रक्षा की। उनके साथ पीएम मोदी की हां में हां मिलाने वाले ब्यूरोक्रेट का नाम शामिल कर दिया। यह बहुत खराब लगा।

‘असम बंटेगा तो देश को होगा नुकसान’

राहुल ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस रोज देश को बांटने का काम कर रही है। असम बंट गया तो किसी को नुकसान नहीं होगा, असम को नुकसान होगा और असम के नुकसान से पूरे देश को नुकसान होगा। असम छोटा प्रदेश नहीं है, देश के गुलदस्ते का एक सुंदर फूल है। देश को असम की जरूरत है। असम में हिंसा आएगी तो असम बंटेगा। यह हम नहीं होने देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here