अजीत सिंह हत्याकांड: UP पुलिस ने ‘विकास दुबे स्टाइल’ में किया कुख्यात शूटर गिरधारी को ढेर

0
128
Webvarta Desk: लखनऊ (Lucknow News) के पॉश विभूतिखंड इलाके में पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह (Ajit Singh) की ह’त्या करने के मुख्य आरोपी और कुख्यात शूटर गिरधारी (Shooter Girdhari) को पुलिस (UP Police) ने एनकाउंटर में मार गिराया है।

बताया जा रहा है कि गिरधारी (Shooter Girdhari) को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस (UP Police) राजधानी के खरगापुर इलाके में हत्या में प्रयुक्त असलहे की तलाश के लिए लेकर पहुंची थी। इसी दौरान गिरधारी ने असलहा छीनकर भागने का प्रयास किया और फिर मुठभेड़ में मारा गया। गिरधारी के एनकाउंटर की कहानी कानपुर के बिकरू कांड के आरोपी विकास दुबे के एनकाउंटर जैसी ही है। विकास दुबे को भी असलहा छीनकर भागने के प्रयास के दौरान मार गिराया गया था।

पुलिस के बयान के मुताबिक, गिरधारी को पूर्व में दिल्ली पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद यूपी लाया गया था। दिल्ली पुलिस के आउटर नॉर्थ जिले की स्पेशल स्टाफ पुलिस ने रोहिणी इलाके से आरोपी शूटर गिरधारी को पकड़ा था। इसके बाद गिरधारी को कानूनी कार्रवाई पूरी करने के बाद दिल्ली से लखनऊ लाया गया था। रविवार रात पुलिस की टीम हत्याकांड में उपयोग किए गए असलहे की बरामदगी के लिए गिरधारी को अपने वाहन से सहारा अस्पताल के पास स्थित खरगापुर इलाके में लेकर आई थी।

गाड़ी से उतरने के दौरान एसआई पर किया हमला

पुलिस का कहना है कि उस वक्त जब पुलिस के जवान गिरधारी को गाड़ी से उतार रहे थे, उसे वक्त उसने वहां मौजूद सब इंस्पेक्टर अख्तर उस्मानी पर हमला किया और फिर उनकी पिस्टल लेकर भागने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस टीम के साथ मौजूद एसआई अनिल सिंह ने उसका पीछा किया, जिसके बाद गिरधारी यहां की झाड़ियों के रास्ते भागने की कोशिश करने लगा।

घटना की सूचना तत्काल कंट्रोल रूम को दी गई, जिसके बाद लखनऊ के एसीपी ईस्ट समेत कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। इसके बाद सख्त घेराबंदी कर गिरधारी को सरेंडर करने की चेतावनी दी गई।

लूटी पिस्टल से करता रहा फायरिंग

पुलिस की सख्त घेराबंदी के बीच गिरधारी लगातार लूटी हुई पिस्टल से फायरिंग करता रहा, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में पुलिस अधिकारियों ने भी कई राउंड गोलियां चलाई। इस कार्रवाई में गिरधारी गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल गिरधारी को गिरफ्तार कर पुलिस ने तत्काल उसे पास में मौजद राम मनोहर लोहिया अस्पताल के इमर्जेंसी वॉर्ड में पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मुन्ना बजरंगी के करीबी की भी ह’त्या का आरोप

बता दें कि गिरधारी ने सितम्बर 2019 में वाराणसी के तहसील सदर में माफिया मुन्ना बजरंगी के करीबी नितेश सिंह बबलू की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या की थी। उसके बाद पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने लगातार गिरधारी उर्फ डॉक्टर की गिरफ्तारी के लिए बिहार तक छापेमारी की लेकिन गिरधारी को पुलिस नहीं पकड़ सकी।

यह है पूरा मामला

बीते दिनों राजधानी के विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे पर मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने बताया था कि गैंगवार के चलते ताबड़तोड़ फायरिंग की गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना में घायल अजीत सिंह और उसके साथी मोहर सिंह को लोहिया अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने अजीत सिंह को मृत घोषित कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here