Azadi ka Amrut Mahotsav: ‘अमृत महोत्सव’ का हुआ आगाज, PM मोदी बोले- दोबारा महाशक्ति बनेगा भारत

0
277
Webvarta Desk: PM Modi at Amrit Mahotsav: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) शुक्रवार को अहमदाबाद में आजादी के 75वें (75th Years of Independence) साल का अमृत महोत्सव (Azadi ka Amrut Mahotsav) का आगाज किया। इस दौरान पीएम मोदी ने अमृत महोत्सव की एक वेबसाइट (Amrit Mahotsav Website) और लोगो भी लांच किया।

वहीं आज दांडी मार्च की भी 91वीं वर्षगांठ (19th Anniversery of Dandi March) है। ऐसे में पीएम मोदी (PM Modi at Amrit Mahotsav) ने एक पैदल मार्च को हरी झंडी दिखाई। इससे पहले पीएम मोदी साबरमती आश्रम पहुंचे महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी।

शुक्रवार को सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ अमृत महोत्सव (Azadi ka Amrut Mahotsa v) की शुरुआत की गई। इस दौरान आजादी के 75 साल पूरा होने (75th Years of Independence) पर होने वाले जश्न अमृत महोत्सव का थीम सांग लांच भी किया गया। वहीं पीएम मोदी (PM Modi at Amrit Mahotsav) ने साबरमती आश्रम से दांडी मार्च (Dandi March) की याद में एक मार्च को हरी झंडी दिखाई। यह यात्रा कुल 386 किमी. की होगी, जो 12 मार्च से शुरू होकर 5 अप्रैल तक जारी रहेगी। बता दें कि आज से शुरू हुआ जश्न 75 हफ्तों (अगस्त 2022 तक) जारी रहेगा।

फिर महाशक्ति बनेगा भारत

इस मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi at Amrit Mahotsav) ने कहा कि मानवता को महामारी के संकट से बाहर निकालने में, वैक्सीन निर्माण में भारत की आत्मनिर्भरता का आज पूरी दुनिया को लाभ मिल रहा है। भारत एक बार फिर विश्व की महाशक्ति बनेगा। आज भी भारत की उपल्धियां (Amrit Mahotsav) सिर्फ हमारी अपनी नहीं हैं, बल्कि ये पूरी दुनिया को रोशनी दिखाने वाली हैं, पूरी मानवता को उम्मीद जगाने वाली हैं।

उन्होंने कहा कि भारत की आत्मनिर्भरता (Atma Nirbhar Bharat) से ओतप्रोत हमारी विकास यात्रा पूरी दुनिया की विकास यात्रा को गति देने वाली है। देश इतिहास के इस गौरव को सहेजने के लिए पिछले 6 सालों से सजग प्रयास कर रहा है। हर राज्य, क्षेत्र में इस दिशा में प्रयास किए जा रहे हैं। दांडी यात्रा (Dandi March) से जुड़े स्थल का पुनरुद्धार देश ने दो साल पहले ही पूरा किया था। मुझे खुद इस अवसर पर दांडी जाने (Dandi March) का अवसर मिला था।

दशकों से भूले-बिसरे पड़े पंचतीर्थों का विकास

पीएम मोदी (PM Modi at Amrit Mahotsav) ने कहा कि जालियांवाला बाग में स्मारक हो या फिर पाइका आंदोलन की स्मृति में स्मारक, सभी पर काम हुआ है। बाबा साहेब से जुड़े जो स्थान दशकों से भूले बिसरे पड़े थे, उनका भी विकास देश ने पंचतीर्थ के रूप में किया है। अंडमान में जहां नेताजी सुभाष ने देश की पहली आजाद सरकार बनाकर तिरंगा फहराया था, देश ने उस विस्मृत इतिहास को भी भव्य आकार दिया है। अंडमान निकोबार के द्वीपों को स्वतंत्रता संग्राम के नामों पर रखा गया है।

पीएम मोदी (Amrit Mahotsav) ने बताया कि तमिलनाडु की ही वेलू नाचियार वो पहली महारानी थीं, जिन्होंने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। इसी तरह, हमारे देश के आदिवासी समाज ने अपनी वीरता पराक्रम से लगातार विदेशी हुकूमत को घुटनों पर लाने का काम किया था। श्यामजी कृष्ण वर्मा, अंग्रेजों की धरती पर रहकर, उनकी नाक के नीचे आजादी के लिए संघर्ष करते रहे। लेकिन उनकी अस्थियां 7 दशकों तक इंतजार करती रही कि कब उन्हें भारतमाता की गोद नसीब होगी। 2003 में विदेश से उनकी अस्थियां मैं अपने कंधे पर उठाकर ले आया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here