Black Fungus: स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, छुआछूत से नहीं फैलता ब्लैक फंगस

0
69
dr. randeep guleria on black fungus

नई दिल्ली, 24 मई (वेबवार्ता)। देश भर में कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने तबाही मचाई कर रख दी है। इस बीच ब्लैक फंगस (Black Fungus) ने भी लोगों के मन में डर पैदा कर दिया है। इसको लेकर कई तरह की खबरें सामने आ रही हैं। अब स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) का ब्लैक फंगस (Black Fungus) पर बयान सामने आया है।

मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि ब्लैक फंगस (Black Fungus) कोई संक्रामक बीमारी नहीं है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि ब्लैक फंगस की वजह इम्यूनिटी की कमी ही है। यह साइनस, राइनो ऑर्बिटल और ब्रेन पर प्रभाव डालता है। अब यह छोटी आंत में भी दिखाई दिया है, लेकिन अलग-अलग रंगों के मुताबिक, इसको पहचान देना गलत है।

उन्होंने कहा कि एक ही फंगस (Black Fungus) को अलग-अलग रंगों के नाम से अलग पहचान देने का कोई अर्थ नहीं है। ये संक्रमण यानी छुआछूत कोरोना की तरह नहीं फैलता है। उन्होंने कहा कि साफ-सफाई का ध्यान रखें। उबला पानी पिएं। नाक के अंदर दर्द-परेशानी, गले में दर्द, चेहरे पर संवेदना कम हो जाना, पेट में दर्द होना इसके लक्षण हैं। रंग के बजाय लक्षणों पर ध्यान दें। इलाज जल्दी हो तो फायदा और बचाव जल्दी व निश्चित होता है।

गुलेरिया ने कहा कि रिकवरी रेट में बढ़ोतरी के बाद लोगों को पोस्ट कोविड सिंड्रोम (Post covid syndrome) 4-12 हफ्ते तक रह सकते हैं। सांस में दिक्कत, बदन सीने में दर्द, खांसी, थकान, जोड़ों में दर्द, तनाव, अनिद्रा जैसी शिकायत रहती है। उनके लिए काउंसलिंग, रिबाबिलिटेशन और ट्रीटमेंट जरूरी है। योग भी बेहतरीन काम करता है। डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि ऐसा कोई डेटा नहीं है जो यह दर्शाता हो कि वायरस जानवरों से इंसानों में फैलता है। हमारे पास केवल यह दिखाने वाला डेटा है कि वायरस मनुष्यों से जानवरों में फैलता है जैसा कि पहली लहर के दौरान न्यूयॉर्क के एक चिड़ियाघर में देखा गया था।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले 24 घंटे में देश में कोविड (Covid-19) के 2,22,000 मामले रिपोर्ट किए गए हैं। 40 दिन के बाद यह अब तक के सबसे कम मामले दर्ज़ किए गए हैं। ज़िला स्तर पर भी कोरोना के मामलों में कमी आ रही है। 3 मई तक रिकवरी दर 81.7 फीसद थी अब यह बढ़कर 88.7 फीसद हो गई है। पिछले 22 दिनों से देश में सक्रिय मामलों की संख्या में कमी देखी जा रही है।

3 मई के समय देश में 17.13 फीसद सक्रिय मामलों की संख्या थी, अब यह घटकर 10.17 फीसद रह गई है। पिछले 2 हफ्तों में सक्रिय मामलों की संख्या में करीब 10 लाख की कमी देखी गई है। भारत के स्टैंड रिपोर्ट्स पर कि कोरोना एक प्रयोगशाला वायरस हो सकता है, लव अग्रवाल ने कहा कि बहुपक्षीय मंचों पर चर्चा के आधार पर हमें अधिक स्पष्टता और एक बड़ी तस्वीर मिलेगी। उन्होंने कहा कि हम केंद्रीय स्तर पर (फाइजर और मॉडर्न) के साथ दो तरह से अनुमोदन और खरीद के लिए समन्वय कर रहे हैं। यह सरप्लस पर निर्भर करता है कि वे भारत को कितना प्रदान कर सकते हैं। वे भारत सरकार के पास वापस आएंगे, सुनिश्चित करेंगे और सुविधा प्रदान करेंगे, उस आधार पर हम राज्यों को आपूर्ति करने में सक्षम हो सकते हैं।

Black Fungus: कोविड मरीजों में ब्लैक फंगस कहां से

Black Fungus: कोरोना (Corona Virus) संकट के बीच देशभर में ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) के बढ़ते मामले अब डराने लगे हैं। कुछ राज्यों ने ब्लैक फंगस को अपने यहां महामारी भी घोषित कर दिया है। ब्लैक फंगस नाम की बीमारी ने लोगों को नए टेंशन में डाल दिया है। स्टेरॉयड के गलत इस्तेमाल से ब्लैक फंगस (Black Fungus) का इंफेक्शन होने के सवाल पर विशेषज्ञों में मतभेद हैं।

कुछ जहां इसे असली वजह बता रहे हैं, तो वहीं कई विशेषज्ञों का कहना है कि स्टेरॉयड काफी समय से तमाम मरीजों को दी जाती रही है लेकिन इस तरह का इंफेक्शन कभी सामने नहीं आया। वहीं कुछ विशेषज्ञ अशुद्ध ऑक्सीजन को इसकी मूल वजह बता रहे हैं, लेकिन सरकार या आईसीएमआर की तरफ से अभी तक इस बारे में कोई स्पष्टीकरण नहीं आया है जिससे इसे लेकर एक असमंजस का माहौल बनता जा रहा है।

बीएचयू के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. विजय नाथ मिश्र भी स्टेरॉयड से ब्लैक फंगस की थ्योरी से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। उन्होंने ट्वीट किया है कि न्यूरोलॉजी में, ऐसे सैकड़ों मरीज हर वर्ष होते हैं जिन्हें, विभिन्न रोगों के लिए 4 से 6 महीने तक स्टेरॉड दिया जाता है। कई तो साल भर से भी ज्यादे स्टेरॉड लेते रहते हैं, पर किसी में ब्लैक फंगस नहीं हुआ। आखिर यह कैसे हुआ कि मात्र हफ्तों में, कोविड में, इतने ब्लैक फंगस आ गए।

शुरुआती दौर में कहा जा रहा था कि ब्लैक फंगस (Black Fungus) की मुख्य वजह स्टेरॉयड का दिया जाना है, लेकिन दुनिया के अन्य मुल्कों में जहां कोरोना फैला वहां ब्लैक फंगस के मामले न मिलना सवाल खड़े करता है। हाल ही में दिल्ली के प्रतिष्ठित अस्पताल एम्स की डॉक्टर प्रोफेसर उमा कुमार ने इस पर सवाल उठाया है और उनका दावा है कि इस बीमारी की कई और वजहें हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here