Kisan Sansad: आज से जंतर-मंतर पर चलेगी 200 किसानों की ‘संसद’, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

0
22

Webvarta Desk: Farmers Protest: एक तरफ संसद का मॉनसून सत्र (Parliament Monsoon Session) चल रहा है, दूसरी तरफ आज सदन के बाहर जंतर-मंतर पर किसानों की ‘संसद’ (Kisan Sansad at Jantar Mantar) चलेगी।

संसद के मॉनसून सत्र (Parliament Monsoon Session) के दौरान नई दिल्ली में विरोध-प्रदर्शन (Farmers Protest) करने की किसानों की मांग को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने सशर्त मंजूरी दे दी है। जानकारी के मुताबिक, बुधवार को हुई तीसरे दौर की मीटिंग के बाद 200 किसानों को जंतर-मंतर (Jantar Mantar) पर किसान संसद का आयोजन करने की इजाजत दी गई है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का उल्लंघन ना हो, इसे देखते हुए एक बीच का रास्ता निकाला गया है।

हर संगठन से 5-5 सदस्यों को अनुमति

संयुक्त किसान मोर्चे में देशभर के करीब 40 किसान संगठन शामिल हैं। ऐसे में एक समूह के रूप में इजाजत देने के बजाय अलग-अलग संगठनों के स्तर पर यह इजाजत दी गई है। हर संगठन से 5-5 सदस्यों को जंतर-मंतर पर जाने की इजाजत मिली है।

ये सभी लोग गुरुवार सुबह सिंघु बॉर्डर पर इकट्ठा होंगे, जहां से पुलिस खुद 5-6 बसों में बैठाकर इन लोगों को एस्कॉर्ट करते हुए एक तय रूट से जंतर-मंतर तक लेकर आएगी। टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर बैठे किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को भी पहले सिंघु बॉर्डर पहुंचना होगा और वहीं से उन्हें बस में बैठकर जाना होगा।

पुलिस और किसानों के बीच इन बातों पर बनी सहमति…

  • किसान संसद रोजाना सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक चलेगी
  • हर संगठन से 5 लोग शामिल होंगे जिनको चिन्हित किया जाएगा
  • अलग-अलग बॉर्डर के बजाय किसानों को सिंघु बॉर्डर से दिल्ली में एंट्री दी जाएगी
  • सिंघु बॉर्डर पर इकट्ठा होने के बाद किसान बसों के जरिए जंतर-मंतर जाएंगे
  • किसानों की बसों के साथ पुलिस की गाड़ी भी चलेगी
  • जंतर-मंतर पर कोविड नियमों के साथ करना होगा प्रदर्शन
  • सुरक्षा के इंतजामों के साथ जंतर-मंतर पर CCTV से भी नजर रखी जाएगी
  • 5 बजे के बाद बसों के ही जरिए किसानों को वापस सिंघु बॉर्डर पहुंचा दिया जाएगा
  • किसान संसद में जो मंच बनेगा, उसे उन्हीं किसानों में से संबोधित किया जाएगा

दो दिन महिलाएं संभालेंगी संसद

बीकेयू के प्रवक्ता धर्मेंद्र ने बताया कि आंदोलन में 40 से अधिक संगठन जुड़े हुए हैं। हर एक किसान संगठन अपनी बारी आने पर जत्थे के लिए 5 किसानों को भेजेगा। किसान संसद जत्थे में शामिल होने वाले हर किसान की अपनी आईडी होगी। उन्होंने बताया कि किसान संसद में 26 जुलाई और 9 अगस्त को महिला किसानों का जत्था प्रमुखता से शामिल होगा।

DDMA ने भी किसानों के प्रदर्शन को अनुमति दी

दिल्ली पुलिस के साथ ही दिल्ली डिजास्टर मैनेंजमेंट अथॉरिटी (DDMA) ने भी किसानों को जंतर मंतर पर विरोध प्रदर्शन की अनुमति दे दी है। डीडीएमए के अडिशनल सीईओ ने राजेश गोयल ने बुधवार की शाम को दिल्ली पुलिस के अडिशनल कमिश्नर (हेडक्वॉर्टर) दीपक पुरोहित को एक पत्र लिखकर सूचित किया कि दिल्ली के उप-राज्यपाल ने दिल्ली पुलिस की तरफ से किए गए अनुरोध को स्वीकार करते हुए संयुक्त किसान मोर्चे के बैनर तले 200 किसानों को जंतर मंतर पर प्रोटेस्ट करने की अनुमति दे दी है।

किसान बोले- संसद का बहिष्कार न करे विपक्ष

किसान नेता आजाद पालवां ने बताया कि 200 किसान जंतर-मंतर पर समानांतर सदन चलाएंगे। विपक्ष के सभी सांसदों से आह्वान किया कि वर्तमान में चल रहे सदन की बैठकों का बहिष्कार न करके किसानों की आवाज को सदन में उठाएं। विपक्ष के सांसद ऐसा नहीं करते है तो सत्ता पक्ष के सांसदों की तरह विपक्ष के सांसदों का बहिष्कार किया जाएगा। सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं का भी बहिष्कार करने के फैसले का प्रस्ताव पास किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here