Modi Cabinet Reshuffle : कैबिनेट विस्तार से पहले हर्षवर्धन, गंगवार समेत 10 मंत्रियों से लिया गया इस्तीफा

0
42
Modi Cabinet Reshuffle

New Delhi: नरेंद्र मोदी कैबिनेट (Modi Cabinet Reshuffle) में बड़े फेरबदल और विस्तार का काउंटडाउन शुरू हो गया है। इस बीच मंत्रियों के इस्तीफों का दौर शुरू हो गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, श्रम मंत्री संतोष गंगवार और शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक समेत कई मंत्रियों ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। बंगाल के सांसद बाबुल सुप्रियो से भी वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री के पद से इस्तीफा ले लिया गया है।

इससे पहले दिल्ली में प्रधानमंत्री आवास पर विस्तार को लेकर अहम बैठक हुई। गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई अन्य नेता मौजूद रहे। बता दें कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में यह पहला मंत्रिमंडल विस्तार होगा। केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार (Modi Cabinet Reshuffle) में 43 नेता केंद्रीय मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। सर्बानंद सोनोवाल और ज्योतिरादित्य सिंधिया और अनुप्रिया पटेल की जगह तय मानी जा रही है। पढ़ें मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार से जुड़ी हर जानकारी।

हरियाणा के अंबाला से चौथी बार सांसद रतनलाल कटारिया से भी इस्तीफा ले लिया गया है। राज्य मंत्री प्रताप चंद्र सारंगी का भी इस्तीफा ले लिया गया है। वहीं मंगलवार को ही सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गहलोत को हटाकर उन्हें कर्नाटक के राज्यपाल का जिम्मा दिया गया था। इस तरह से अब तक 10 लोगों की कैबिनेट से छुट्टी कर दी गई है। इस बीच बीजेपी ने बिहार की अपने गठबंधन सहयोगी जेडीयू को भी साध लिया है। जेडीयू के खाते में कैबिनेट मंत्री के एक पद के साथ ही 3 राज्य मंत्री के पद जाएंगे। जेडीयू के नेता आरसीपी सिंह कैबिनेट मिनिस्टर होंगे।

शाम छह बजे मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले नए मंत्रियों के लिए शपथ ग्रहण समारोह होगा। मोदी सरकार के कैबिनेट विस्तार में 19 नए चेहरों को शामिल किया जा सकता है। इसके साथ ही मंत्रिपरिषद की संख्या 53 से बढ़़कर 72 हो जाएगी। कैबिनेट फेरबदल में कुछ मंत्रियों का कद भी बढ़ाया जा सकता है। इनमें प्रमुख नाम नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी का भी चल रहा है।

Modi Cabinet Reshuffleइस बीच लोजपा नेता पशुपति कुमार पारस भी पीएम नरेंद्र मोदी के आवास पर पहुंचे हैं। इससे माना जा रहा है कि उन्हें कैबिनेट में जगह मिल सकती है। यदि ऐसा होता है तो यह चिराग पासवान के लिए करारा झटका होगा, जो लोजपा में टूट को रोकने के लिए बीजेपी से मदद तक की अपील कर चुके हैं। दरअसल, मोदी कैबिनेट फिलहाल 53 मंत्री शामिल हैं, जबकि उसमें अधिकतम 81 मंत्री रह सकते हैं। इस तरह से देखा जाए तो पीएम मोदी के मंत्रिमंडल में अभी 28 और मंत्री बनाए जाने की संभावना है।

निषाद पार्टी ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में मांगी जगह

दिल्ली में बुधवार शाम केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार होने से कुछ घंटे पहले निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद ने अपने बेटे प्रवीण निषाद के लिए जगह की मांग की है, जो संत कबीर नगर से भाजपा सांसद हैं। संदेश में संजय निषाद ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 160 से अधिक विधानसभा सीटों पर निषाद समुदाय का प्रभाव है। अगर अनुप्रिया पटेल को केंद्रीय मंत्रालय में शामिल किया जा सकता है, तो प्रवीण निषाद भी जगह के हकदार हैं। 2019 में भाजपा को 40 सीटों पर निषाद वोट मिले। उन्होंने कहा कि उन्होंने पहले ही भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से बात कर ली है और अब फैसला भाजपा को करना है।

ब्यूरोक्रेट और टेक्नोक्रेट का प्रतिनिधित्व बढ़ सकता है

माना जा कहा है कि मंत्रिमंडल में 20 नए चेहरे शामिल किए जा सकते हैं। उत्तर प्रदेश व बिहार को बड़ा हिस्सा मिलेगा। ओबीसी मंत्रियों की संख्या बढ़कर 25 पर पहुंच सकती है। इसके अलावा केंद्र सरकार में ब्यूरोक्रेट और टेक्नोक्रेट का प्रतिनिधित्व बढ़ सकता है।सरकार में शिक्षित और युवा सदस्यों को मौका दिया जाएगा। सर्बानंद सोनोवाल और ज्योतिरादित्य सिंधिया का आना तय माना जा रहा है। विदेश मंत्री एस जयशंकर, बिजली मंत्री आरके सिंह और केंद्रीय शहरी विकास राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ऐसे मंत्री हैं, जो पहले ब्यूरोक्रेसी का हिस्सा रहे हैं। मंत्रिमंडल में 81 मंत्री हो सकते हैं। अभी 28 पद सरकार में खाली हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here