सोनिया, खुर्शीद, दिग्विजय, ममता, केजरीवाल.. BJP ने बाटला हाउस कांड पर याद दिलाए सबके बयान

0
128
Webvarta Desk: BJP ने बाटला हाउस एनकाउंटर (Batla House Encounter) केस में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का फैसला आते ही कांग्रेस समेत उन तमाम विपक्षी दलों को कटघरे में खड़ा कर दिया जिन्होंने इस मुठभेड़ को फर्जी बताया था।

केंद्रीय कानून मंत्री और बीजेपी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि एक खास तबके के वोट के लिए इन राजनीतिक दलों ने दिल्ली पुलिस का मनोबल तोड़ा और आतंकवादियों का साथ दिया। उन्होंने सोनिया गांधी, सलमान खुर्शीद, दिग्विजय सिंह, ममता बनर्जी और अरविंद केजरीवाल से सवाल पूछे।

नेताओं के रुख से डर गए थे दिल्ली पुलिस के लोग

प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने दावा किया कि विपक्षी नेताओं के रवैये से दिल्ली पुलिस के कई लोग इतने डर गए थे कि उन्होंने बीजेपी नेताओं से संपर्क कर सुरक्षा की गुहार लगाई थी। प्रसाद ने कहा, “दिल्ली पुलिस के कई लोगों ने हमसे परोक्ष संपर्क किया था कि हमें बचाइए। हमें ही हमलावर बताने की मुहिम चल पड़ी है। हम देश की सुरक्षा के लिए क्या करें?”

आरोप- वोट बैंक की पॉलिटिक्स के लिए देश को दांव पर लगाया

केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस नेताओं के बयान याद दिलाते हुए कहा कि इन्होंने वोट बैंक पॉलिटिक्स के लिए देश की सुरक्षा ताक पर रख दी।

उन्होंने कहा, “आपने सलमान खुर्शीद का बयान सुना होगा कि आतंकवादी मारे गए तो सोनिया गांधी की आखों में आंसू थे। यह सार्वजनिक बयान है, रेकॉर्ड पर है। दिग्विजय सिंह तो आजमगढ़ चले गए। उन्होंने कहा था कि गोली तो सिर के ऊपर लगी है तो वो हमला कहां से करेंगे? इस पूरी घटना को एक प्रकार से जबर्दस्त संदेह में डालने की कोशिश की गई। यह सब दिल्ली पुलिस का मनोबल तोड़ने और आंतकवादियों की हौसला आफजाई के लिए किया गया था ताकि खास तबके का वोट हासिल किया जा सके।”

ममता बनर्जी के वादे की दिलाई याद

उन्होंने 18 अक्टूबर 2008 की एक खबर पढ़ते हुए बताया कि कैसे ममता बनर्जी ने कहा था कि अगर बाटला हाउस एनकाउंटर फर्जी साबित नहीं हुआ तो वो राजनीति छोड़ देंगी।

प्रसाद ने रिपोर्ट पढ़ते हुए कहा, “समाजवादी नेता अमर सिंह और तृणमूल कांग्रेस नेता ममता बनर्जी ने जामियानगर में मंच साझा किया और बाटला हाउस एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए न्यायिक जांच की मांग की थी। दर्शकों की तालियों की गड़गड़ाहट के बीच ममता ने कहा कि अगर वो झूठी साबित हुईं तो राजनीति करना छोड़ देंगी।”

केजरीवाल ने भी की थी जांच की मांग

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 2013 में आरोपी का आजीवन कारावास हुआ और जो मुख्य अभियुक्त आरिज खान उर्फ जुनैद दोषी साबित हुआ। उन्होंने कहा, “ममता बनर्जी, अब क्या कहेंगी? सलमान खुर्शीद आपका क्या कहना है? क्या आपके और सोनिया गांधी की आखों से अब आंसू निकले कि नहीं? दिग्विजय सिंह जी अब आप क्या कहेंगे?”

उन्होंने आगे कहा, “बाटला हाउस कांड को समाजवादी पार्टी, बीएसपी, कांग्रेस पार्टी, लेफ्ट पार्टीज, ममता बनर्जी… इनसबों ने राष्ट्रीय मुद्दा बनाया था। यूपी के चुनाव में इसे मुद्दा बनाया था। इसमें अरविंद केजरीवाल भी शामिल थे। उन्होंने भी जांच की मांग की थी। क्या आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को इस तरह कमजोर किया जाएगा?”

आतंकियों के समर्थन में कहां-कहां न गए ये नेता!

रविशंकर प्रसाद ने विपक्षी दलों पर बाटला हाउस एनकाउंटर पर देश को गुमराह करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “ये लोग राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग गए, उसने जांच में एनकाउंटर को सही पाया। ये लोग दिल्ली हाई कोर्ट गए, उसने भी सही पाया तो ये लोग सुप्रीम कोर्ट गए, उसने भी इसे सही पाया।” उन्होंने कहा कि कल बाटला हाउस एनकाउंटर पर उठे सवालों के जवाब मिल गए और वोट बैंक पॉलिसी के कारण पिछले 22 सालों से जारी विवाद का खात्मा हो गया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश की सुरक्षा और आतंकवाद की लड़ाई के मामले में भी कांग्रेस पार्टी और बाकी विपक्षी पार्टियां किस तरह आतंकवादियों के पक्ष में खड़ी हो गई थीं। दिल्ली के अंदर भीषण आतंकवादी हमला हुआ था और इन पार्टियों ने पुलिस की हिम्मत को तोड़ने की कोशिश की।

13 सितंबर 2008 को दिल्ली में हुए थे सीरियल ब्लास्ट

उन्होंने याद दिलाया, “13 सितंबर 2008 को दिल्ली में सिलसिलेवार बम धमाके हुए थे जिनमें 29 लोग मारे गए जबकि 159 लोग घायल हुए थे। जांच में पता चला था कि इसमें इंडियन मुजाहिदीन का हाथ है। जब पता चला कि दिल्ली के जामियानगर स्थित बाटला हाउस में इसके आतंकवादी छिपे हैं तो वहां पुलिस तलाशी लेने पहुंची। वहां आतंकवादियों ने पुलिस दल पर गोलियां चलानी शुरू कर दी जिसमें इंस्पेक्टर मोहन चंद्र शर्मा शहीद हो गए जबकि दो पुलिस वाले घायल हो गए। वहीं पुलिस की गोलियों से दो आतंकवादी मारे गए जबकि दो बचकर भाग निकले।”

सुप्रीम कोर्ट ने कल के फैसले में क्या कहा

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कल के फैसले में माना है कि ये भारत की एकता और अखंडता पर हमला था। ये आतंकवाद की घटना थी। लगभग 100 गवाहों की गवाही और इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्यों के आधार पर इस घटना को सही पाया। आरिज खान उर्फ जुनैद देश में कई बम धमाकों का मास्टमाइंड था जिनमें 165 लोगों की मौत हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here