Pak vs NZ: 400 से भी ज्यादा रन बनाकर हारने के बाद कप्तान केन का बड़ा बयान, कहा- बहुत कुछ बाकी है…

Chennai: वनडे वर्ल्ड कप में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड (Pak vs NZ) के बीच मुकाबला खेला गया। इस मैच में पाकिस्तान ने न्यूजीलैंड के DLS के नियमों के आधार पर 21 रनों से हरा दिया। दोनों ही टीमों के लिए यह मैच जीतना बहुत जरूरी था। वर्ल्ड कप में की शुरुआत लगातार चार जीत के साथ करने वाली किवी टीम अब सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए जूझती नजर आ रही है। पाकिस्तान (Pak vs NZ) के खिलाफ मुकाबले के बाद वह लगातार चौथा मैच हार गए हैं। अंतिम चार में पहुंचने के लिए टीम को लीग चरण के अपने आखिरी मुकाबले में नौ नवंबर को श्रीलंका के खिलाफ जीत दर्ज करने के अलावा अपने नेट रन रेट को भी ध्यान में रखना होगा। इस मैच में मिली हार के बाद न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन बेहद निराश नजर आए।

क्या बोले कप्तान केन

विलियमसन ने मैच के बाद कहा कि इस टूर्नामेंट में उनके लिए बहुत कुछ बाकी है। आज सब कुछ इतना अच्छा चलने के बाद यह उनके लिए निराशाजनक परिणाम है। उन्हें आगे बढ़ने और अपनी अगली चुनौती पर ध्यान देने की जरूरत है। वह इस हार से भी कुछ सकारात्मकता के साथ आगे बढ़ेंगे और कुछ सबक सीखने की कोशिश करेंगे। विलियमसन ने कहा कि उनकी टीम को श्रीलंका के खिलाफ मैच से पहले अपने योजनाओं पर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि उनकी योजना स्पष्ट होगी। वह अन्य टीमों पर भरोसा नहीं कर सकते क्योंकि वे छोटे अंतर से भी पिछड़ सकते हैं। चाहे वह रन रेट हो या आपका आखिरी मैच। उनका ध्यान अभी उस क्रिकेट पर है जिसे वे खेलना जारी रखना चाहते हैं। उनके पास जो मौके है उन्हें उससे तालमेल बैठाना होगा।

श्रीलंका के खिलाफ मैच का प्लान

विलियमसन ने कहा कि उन्होंने इसे वास्तव में सकारात्मक तरीकों से किया है। उन्हें कुछ चुनौती भी मिली है। ऐसे टूर्नामेंट में वे इस तरह की चुनौती की उम्मीद करते हैं। न्यूजीलैंड को हालांकि पाकिस्तान (Pak vs NZ) के खिलाफ यह हार काफी खलेगी क्योंकि टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट पर 401 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। बारिश ने पाकिस्तान का काम कुछ आसान कर दिया लेकिन विलियमसन ने पाकिस्तान के बल्लेबाजों को जीत का श्रेय दिया। उन्होंने कहा कि मैच की दूसरी पारी में भी उनके खिलाड़ियों ने अच्छा प्रयास किया लेकिन बारिश के कारण उनके लिए चीजें मुश्किल हो गई। उन्हें हालांकि पाकिस्तान को श्रेय देना होगा। पाकिस्तान को इस लक्ष्य को हासिल करने का प्रयास करना था और उन्होंने इसे शानदार तरीके से अंजाम दिया।