नए ऑर्डर और मजबूत मांग से दिसंबर में मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में रिकॉर्ड बढ़त, PMI 13 महीने के हाई लेवल पर

नई दिल्ली : भारत में विभिन्न जिंसों की मजबूत मांग और नए ऑर्डर में उछाल से देश की मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर की गतिविधियों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी दर्ज की गई. मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2022 के दिसंबर के दौरान मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर की गतिविधियां बढ़कर 13 महीने के उच्चस्तर पर पहुंच गईं. मौसमी रूप से समायोजित एसएंडपी ग्लोबल इंडिया विनिर्माण खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) दिसंबर में बढ़कर 57.8 पर पहुंच गया, जो नवंबर में 55.7 था. इसकी वजह यह है कि पिछले दो साल में कारोबारी गतिविधियों में अब सबसे तेज सुधार देखने को मिल रहा है.

परिचालन स्थितियों में लगातार 18वें महीने सुधार

दिसंबर 2020 के आंकड़ों से पता चलता है कि कुल परिचालन स्थितियां लगातार 18वें महीने सुधरी हैं. खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) की वेब वार्ता में 50 से अधिक अंक का मतलब विस्तार से है, जबकि 50 से नीचे का आंकड़ा संकुचन को दर्शाता है. एसएंडपी ग्लोबल मार्केट इंटेलिजेंस की एसोसिएट निदेशक पोलियाना डी लीमा ने कहा कि 2022 की शुरुआत काफी अच्छी रही थी. उसके बाद से विनिर्माण क्षेत्र का प्रदर्शन लगातार अच्छा बना हुआ है. इस साल के अंत में पीएमआई गतिविधियां नवंबर, 2021 के बाद से सबसे तेज रही हैं.

दिसंबर में नियुक्ति गतिविधियां अच्छी रहीं

सर्वे में कहा गया है कि दिसंबर में नियुक्ति गतिविधियां अच्छी रहीं. वहीं, कंपनियों ने अपने भंडारण में बढ़ोतरी के लिए अच्छी खरीद की. मांग में मजबूती से दिसंबर में बिक्री में अच्छी बढ़ोतरी देखने को मिली. लीमा ने कहा कि सप्लाई चेन की चुनौतियां अब कम हुई हैं, जिससे विनिर्माण बढ़ा है. आपूर्ति का समय स्थिर है, जिसकी वजह से कंपनियां महत्वपूर्ण सामग्री की खरीद कर सकीं और अपने भंडार को बढ़ा सकीं.

निर्यात के नए ऑर्डर में गिरावट दर्ज

रिपोर्ट में कहा गया है कि निर्यात की बात की जाए, तो दिसंबर में नए ऑर्डर की रफ्तार पिछले पांच माह में सबसे कम रही है. कंपनियों को महत्वपूर्ण निर्यात बाजारों से ऑर्डर में कमी आई है. रिपोर्ट कहती है कि दिसंबर में मुद्रास्फीति के मोर्चे पर लागत दबाव लगभग स्थिर रहा और नवंबर की तुलना में महंगाई की दर में मामूली अंतर ही देखने को मिला. एसएंडपी ग्लोबल इंडिया विनिर्माण पीएमआई एसएंडपी ग्लोबल द्वारा 400 विनिर्माताओं के खरीद प्रबंधकों से मिली प्रतिक्रिया के आधार पर तैयार किया जाता है. रिपोर्ट कहती है कि कंपनियां का नए साल के लिए उत्पादन को लेकर परिदृश्य सकारात्मक है.

Leave a Comment