union budget 2023 central and state govts can make provisions for borrowing more than the market vwt

मुंबई : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आगामी एक फरवरी को भारतीय संसद की लोकसभा में केंद्रीय बजट 2023 पेश करेंगी. आम आदमी, उद्योग जगत और रियल एस्टेट समेत कई क्षेत्रों की ओर से मांग और उम्मीद की जा रही है. लेकिन, संसद में पेश होने वाले केंद्रीय बजट को लेकर रेटिंग एजेंसियां भी अपना अनुमान जाहिर कर रही हैं. इक्रा रेटिंग्स ने केंद्रीय बजट को लेकर अनुमान जाहिर किया है कि केंद्र और राज्य सरकारें अगले वित्त वर्ष 2023-24 के लिए बाजार से अधिक उधारी उठाने का प्रावधान कर सकती हैं. हालांकि, रेटिंग निर्धारित करने वाली वित्तीय एजेंसी का अनुमान यह भी है कि केंद्रीय बजट में राजकोषीय घाटा अनुमान से कम होकर जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) का 5.8 फीसदी रह सकता है.

Leave a Comment