समंदर में फटा Volcano, बन गया दुनिया का सबसे नया आईलैंड, देखें शानदार वीडियो

Tokyo: जापान के समुद्री तट पर पानी के नीचे का ज्वालामुखी (Volcano) इतनी तेज़ी से फूट रहा है कि इसके कारण एक नए द्वीप का निर्माण हो रहा है। स्थानीय समाचार एजेंसी असाही शिंबुन की रिपोर्ट के अनुसार, यह टापू प्रशांत महासागर में टोक्यो से 1,000 किमी की दूरी पर दक्षिण में ओगासावरा द्वीप श्रृंखला में स्थित है।

इवोटो द्वीप (जिसे पहले इवो जिमा द्वीप के नाम से जाना जाता था, द्वितीय विश्व युद्ध की एक बड़ी लड़ाई का स्थल) पर जापान के समुद्री आत्मरक्षा बल के हवाई अड्डे ने पिछले सप्ताह एक नए द्वीप के उद्भव की पुष्टि की जब कर्मियों ने एक जोरदार विस्फोट सुना जिससे रेत और राख उड़ गई और लावा बनता दिखा।

देखें रोमांचक वीडियो

जापान मौसम विज्ञान एजेंसी (जेएमए) ने बताया कि अक्टूबर से ही नियमित रूप से इवोटो द्वीप पर भूकंप के झटके लग रहे थे। एजेंसी का कहना है कि उन्होंने उस समय द्वीप के उभरने का भी पता लगाया है। जेएमए के एक अधिकारी ने द असाही शिंबुन को बताया, “यह संभव है कि समुद्र तल पर गड्ढे से निकली चट्टानों और पत्थरों की एक बड़ी मात्रा जमा हो गई और टापू का निर्माण हुआ है।”

japan

यह पहली बार नहीं है कि किसी ज्वालामुखी (Volcano) ने ओगासावारा द्वीप श्रृंखला में एक नया द्वीप बनाया है। इससे पहले साल 2013 में, एक ज्वालामुखी विस्फोट से समुद्र में एक द्वीप बन गया था, जिससे लगभग 200 मीटर व्यास का एक टापू बन गया था। हालांकि, यह पहली बार है कि 1986 के बाद से इस क्षेत्र में ज्वालामुखी (Volcano) से मैग्मा उगलना शुरू हुआ है। इसका कारण अबतक अज्ञात है कि नया द्वीप बहुत लंबे समय तक जीवित रहेगा या नहीं। इस प्रकार के अधिकांश द्वीप अंततः समुद्र की कठोर परिस्थितियों के कारण हफ्तों या महीनों के भीतर डूब जाते हैं या नष्ट हो जाते हैं।

japan

ताजा विस्फोटों के जारी रहने के कारण जापानी अधिकारियों ने धुएं और बड़े पैमाने पर राख जमा होने के बारे में चेतावनी जारी की है। जापान तट रक्षक द्वारा 1987 में किए गए देश के मानचित्रण के अनुसार पहले माना जाता था कि जापान में लगभग 6,000 द्वीप हैं। लेकिन इस साल की शुरुआत में, जियोस्पेशियल द्वारा उन्नत मानचित्रण तकनीक की बदौलत यह पता चला कि देश में वास्तव में 14,000 से अधिक द्वीप हैं।

volcano erupts