यूएस नागरिकता के लिए 134 साल की वेटिंग, कतार में हैं 11 लाख भारतीय

Washington: अमेरिकी नागरिकता (US citizenship) पाने के लिए सबसे ज्‍यादा क्रेजी भारतीय हैं. यहां रोजगार आधारित नागरिकता के लिए करीब 18 लोगों की एप्‍लीकेशन पेंडिंग हैं जिनमें से 11 लाख भारत से हैं. अमेरिका में प्रवासी लोगों को स्‍थायी निवास के लिए ग्रीन कार्ड या स्‍थायी निवासी कार्ड दिया जाता है, इसे पाने के लिए लाखों लोगों ने आवेदन किया हुआ है.

इसको लेकर अमेरिकी थिंक टैंक कैटो इंस्‍टीट्यूट ने कई तथ्‍यों को उजागर किया है. उसका दावा है कि यह वेटिंग 134 साल तक की होगी. इसमें ऐसी आशंका है कि 4 लाख भारतीय ऐसे भी होंगे जो इंतजार करते ही रह जाएंगे लेकिन ग्रीन कार्ड मिलने से पहले ही उनकी मौत हो चुकी होगी. अमेरिका ने अपने वीजा नियमों को और कड़े किया है; फिर भी यहां की नागरिकता लेने वालों की संख्या में कमी नहींं आई है.

रोजगार आधारित यूएस नागरिकता के लिए सबसे आगे भारतीय
थिंक टैंक कैटो इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में रोजगार आधारित नागरिकता के लिए लाखों लोगों ने आवेदन किया है. इसमें सबसे अधिक एप्‍लीकेशन भारतीयों की है. करीब 63 परसेंट यानी करीब 11 लाख भारतीयों ने इसके लिए आवेदन कर दिया है. सामान्‍य प्रक्रिया के तहत अगर इन एप्‍लीकेशन के जरिए ग्रीन कार्ड दिया जाए तो इसके लिए 134 साल का समय लग जाएगा.

नागरिकता के बाद मिलते हैं कई अधिकार
एशियन अमेरिकन्स एडवासिंग जस्टिस के अध्यक्ष जॉन सी यांग के मुताबिक, ‘भारतीय यहां की नागरिकता की कीमत को सबसे ज्यादा समझते हैं. यहां की नागरिकता पाने के बाद इन लोगों को सुरक्षा के कुछ अधिकार मिलते हैं. उन्हें वोट देने का अधिकार भी मिलता है. यही वजह है कि भारतीय अच्छे मौके, ज्यादा कमाई और तरक्की के लिए यहां बसना चाहते हैं.’

बाइडेन और सांसदों की कोशिशों के बाद भी आसान नहीं है यूएस नागरिकता
रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में नागरिकता लेना नामुमकिन जैसा हो गया है. बाइडेन प्रशासन और भारतीय मूल के अमेरिकी सांसदों के प्रयास किए हैं लेकिन नागरिकता को लेना आसान नहीं है. इधर, प्रवासी भारतीयों की सुविधा के लिए भी भारत सरकार ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं. वर्क वीजा रिन्यू करवाने के लिए अब उन्‍हें फैसिलिटी दी जाएगी. अपने अमेरिका दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई घोषणाएं की थीं. बेंगलुरु और अहमदाबाद में भी अमेरिकी कॉन्सुलेट ऑफिस खुलने जा रहा है.

Leave a Comment