‘स्कूलों में देश की संस्कृति और विविधता का जश्न मनाएं’ : पीएम मोदी की शिक्षकों से अपील

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर सोमवार को राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार विजेताओं से बातचीत की और युवाओं को गढ़ने में उनके योगदान की सराहना की. पुरस्कार विजेताओं के साथ प्रधानमंत्री आवास पर हुए संवाद के दौरान शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद थे. प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक पीएम मोदी ने जमीनी स्तर पर उपलब्धि हासिल करने वालों की सफलता के बारे में बच्चों को शिक्षित करके उन्हें प्रेरित करने के महत्व पर जोर दिया.

इस दौरान, प्रधानमंत्री ने स्थानीय विरासत और इतिहास पर गर्व करने के बारे में बात की और शिक्षकों से आग्रह किया कि वे छात्रों को अपने क्षेत्र के इतिहास और संस्कृति के बारे में जानने के लिए प्रेरित करें. देश में विविधता की ताकत पर प्रकाश डालते हुए, उन्होंने शिक्षकों से अनुरोध किया कि वे अपने स्कूलों में देश के विभिन्न हिस्सों की संस्कृति और विविधता का जश्न मनाएं.

चंद्रयान-3 की हालिया सफलता पर चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के बारे में छात्रों में जिज्ञासा को प्रोत्साहित करने के महत्व को रेखांकित किया क्योंकि 21वीं सदी प्रौद्योगिकी संचालित सदी है. उन्होंने युवाओं को कुशल बनाने और उन्हें भविष्य के लिए तैयार करने के महत्व के बारे में भी बात की.

पीएमओ के मुताबिक ‘मिशन लाइफ’ यानी पर्यावरण के अनुकूल जीवनशैली के बारे में चर्चा करते हुए, प्रधानमंत्री ने उपयोग और फेंकने (यूज एंड थ्रो) की संस्कृति के विपरीत पुन:चक्रण (रीसाइक्लिंग) के महत्व को रेखांकित किया. पीएमओ ने कहा कि इस दौरान कई शिक्षकों ने भी प्रधानमंत्री को अपने स्कूलों में आयोजित स्वच्छता कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी.

प्रधानमंत्री ने शिक्षकों को अपने पूरे करियर में अपने कौशल को लगातार उन्नत करने की सलाह दी. राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार का उद्देश्य देश के कुछ बेहतरीन शिक्षकों के अद्वितीय योगदान को स्वीकार करना और उन शिक्षकों को सम्मानित करना है, जिन्होंने अपनी प्रतिबद्धता के माध्यम से न केवल शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार किया है, बल्कि अपने छात्रों के जीवन को भी समृद्ध किया है.

इस वर्ष, पुरस्कार का दायरा स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा चयनित शिक्षकों से बढ़ाते हुए अब उच्च शिक्षा विभाग और कौशल विकास मंत्रालय द्वारा चयनित शिक्षकों को भी शामिल किया गया है. पीएम मोदी ने सोशल नेटवर्किंग साइट ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘देश के उत्कृष्ट शिक्षकों से मुलाकात हुई, जिन्हें राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. युवा मन को आकार देने के लिए उनका समर्पण और शिक्षा में उत्कृष्टता के लिए उनकी अटूट प्रतिबद्धता बहुत प्रेरणादायक है. अपनी कक्षाओं में, वे भारत के युवाओं के लिए एक उज्जवल भविष्य लिख रहे हैं.’

शिक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, देश भर से कुल 75 शिक्षकों को इस पुरस्कार के लिए चुना गया है. राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पांच सितंबर को इन शिक्षकों को सम्मानित करेंगी. इन विजेताओं में स्कूलों के 50 शिक्षक, उच्च शिक्षा संस्थानों के 13 शिक्षक और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के 12 शिक्षक शामिल हैं.

Leave a Comment