चाचा या भतीजा, किसके साथ हैं नवाब मलिक? NCP नेता को लेकर मिल रहा ये बड़ा इशारा

नागपुर: महाराष्ट्र सरकार के शीतकालीन सत्र का पहला दिन हंगामेदार और कई पेचीदा सवालों से घिरा रहा। इन्हीं सवालों में से एक यह भी रहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विधायक नवाब मलिक आखिर किस गुट के साथ हैं। बता दें कि महाराष्ट्र की सियासत में एक अहम रोल अदा करने वाली NCP इन दिनों चाचा शरद पवार और भतीजे अजित पवार के गुटों में बंट चुकी है। नवाब मलिक नागपुर में शीतकालीन सत्र में शामिल हुए लेकिन बावजूद न ही शरद पवार और न ही अजित पवार गुट की ओर से यह साफ किया गया कि वे किस ओर है।

नवाब मलिक की स्थिति पर मिल रहा ये इशारा

नवाब मालिक आज सत्ताधारी विधायकों के साथ पीछे की कुर्सी पर जाकर बैठे थे। सूत्रों की मानें तो नवाब मलिक भले ही अपनी ओर से कुछ भी साफ-साफ न कह रहे हों, लेकिन उनका यूं सत्ताधारी विधायको के साथ बैठना यह स्पष्ट करता है कि वह अजित पवार गुट को अघोषित समर्थन दे चुके हैं। आपको बता दें कि नवाब मालिक पर कुर्ला की एक जमीन ‘गोवावाला कंपाउंड’ में मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी दाउद इब्राहिम से संबध रखने का मामला सामने आया था और इस सिलसिले में उन्हें ED ने गिरफ्तार भी किया था। एक साल से भी ज्यादा समय तक जेल में रहने के बाद कोर्ट में उन्हें मेडिकल ग्राउंड पर जमानत दी थी।

दानवे ने पूछा, क्या यह बीजेपी को मंजूर है

तत्तकालीन विपक्षी दल BJP ने महाविकास आघाडी सरकार के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और सत्ता में शामिल NCP एवं कांग्रेस पर आतंकवादी का साथ देने का आरोप लगाया था। अब नवाब मलिक सत्ताधरी विधायकों के साथ विधानसभा में भी बैठे दिखे और अजित पवार गुट को मिले कार्यालय में भी मौजूद रहे। इस पर विधान परिषद में उद्धव ठाकरे गुट के नेता अम्बादास दानवे ने पूछा कि जिस नवाब मालिक पर बीजेपी ने आतंकवादी एवं अंडरवर्ल्ड से संबंध होने का आरोप लगाया था और इस्तीफे की भी मांग की थी, क्या उनका सत्ताधारी कुर्सी पर बैठना BJP को मंजूर है?

देवेंद्र फडणवीस ने पत्र लिखकर जताया एतराज

दानवे के सवाल का जवाब देते हुए उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि जब नवाब मलिक को ED ने गिरफ्तार किया था तब तत्कलीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने उन्हें मंत्रिमंडल से क्यों नहीं निकाला था। उन्होंने कहा, ‘पहले आप इस सवाल का जवाब देें और फिर उसके बाद हमसे जवाब मांगें। हम जवाब देंगे।’ वहीं, इस सवाल पर कि ‘नवाब मलिक किस गुट में हैं’ का सीधा जवाब न देते हुए अजित पवार ने कहा था कि कौन कहां बैठेगा यह तय करने का अधिकार विधानसभा अध्यक्ष को है। उन्होंने कहा कि नवाब मलिक किसे समर्थन देना चाहते है ये वह खुद तय करेंगे।