नए साल पर NSC और KVP जैसी छोटी बचत योजना की ब्याज दर में बढ़ोतरी, जानें कितना होगा फायदा

Small Savings Interest Rates News : छोटी बचत योजनाओं में पैसा निवेश करने वाले लोगों के लिए एक खुशखबरी है और वह यह कि केंद्र की मोदी सरकार ने राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी), किसान विकास पत्र (केवीपी), पोस्ट ऑफिस टर्म डिपॉजिट और पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) जैसी छोटी बचत योजना की ब्याज दरों में इजाफा करने का फैसला किया है. खबर है कि सरकार ने अधिकांश छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में 110 बेसिस प्वाइंट या फिर 1.10 फीसदी तक बढ़ोतरी की है. छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ाई गई ब्याज दरें पिछली एक जनवरी 2023 से ही लागू कर दी गई है.

ब्याज दरों में 1.10 फीसदी बढ़ोतरी

मीडिया की रिपोर्ट्स के अनुसार, सरकार ने वित्त वर्ष 2022-2023 के आखिरी या चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च 2023) के ब्याज दरें बढ़ाई है. वित्र मंत्रालय के आर्थिक मामले विभाग की ओर से अभी हाल ही में इस संदर्भ में एक सर्कुलर भी जारी किया है. सरकार की ओर से जारी सर्कुलर के अनुसार, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, पोर्ट ऑफिस टर्म डिपॉजिट, सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम, मंथली इनकम अकाउंट स्कीम, किसान विकास पत्र पर ब्याज दर में 1.10 फीसदी तक बढ़ोतरी की गई है. मौजूदा वित्र वर्ष का आखिरी तिमाही में सरकार ने पब्लिक प्रॉविडेंट फंड स्कीम (पीपीएफ) और सुकन्या समृद्धि अकाउंट स्कीम (एसएसएएस) और 5 साल की अवधि वाले रिकरिंग डिपॉजिट पर ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया है.

किस बचत योजना पर कितनी बढ़ोतरी

सरकार ने राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) पर ब्याज दर 6.8 फीसदी से बढ़ाकर 7 फीसदी कर दी है. इसी तरह वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर ब्याज दर 7.6 फीसदी से बढ़ाकर 8 फीसदी कर दी गई है. विभिन्न अवधि के पोस्ट ऑफिस टर्म डिपॉजिट पर सरकार ने 1.1 फीसदी तक ब्याज बढ़ाया है. मासिक आय खाता योजना पर तीसरी तिमाही में ब्याज 6.7 फीसदी थी, जो अब जनवरी-मार्च तिमाही में 7.1 फीसदी कर दी गई. पहले 123 महीने में मेच्योरिटी वाले किसान विकास पत्र पर निवेशकों को 7 फीसदी रिटर्न का लाभ दिया जा रहा था लेकिन अब मौजूदा वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में समान स्कीम पर 120 महीने की मेच्योरिटी के साथ 7.2 फीसदी ब्याज मिलेगा. नई ब्याज दरें कल लागू होगी.

टैक्स में छूट दिलाने वाली योजना के ब्याज में बढ़ोतरी नहीं

इसके साथ ही, खबर यह भी है कि जनवरी से मार्च की अवधि के लिए टैक्स में छूट का लाभ दिलाने वाली योजनाओं में शामिल पीपीएफ और सुकन्या समृद्धि योजना के तहत जमा पर निवेशकों को ब्याज दर क्रमशः 7.1 फीसदी और 7.6 फीसदी पर मिलेगा. इसमें सरकार ने फिलहाल कोई बदलाव नहीं किया है. इसके अलावा 5 साल की रिकरिंग डिपॉजिट पर पहले की तरह आखिरी तिमाही में भी 5.8 ब्याज मिलेगा.

Leave a Comment